नौसिखिया निवेशक के लिए एक गाइड

क्या होता है स्टॉक मार्केट तथा शेयर मार्केट

क्या होता है स्टॉक मार्केट तथा शेयर मार्केट
Mutual fund investments are subject to market risks. Please read the scheme information and other related documents carefully before investing. Past performance is not indicative of future returns. Please consider your specific investment requirements before choosing a fund, or designing a portfolio that suits your needs.

शेयर मार्केट में अभी-अभी एंट्री की है, तो इन बेसिक शब्‍दों का मतलब जान लें, जो मार्केट में रोज बोले जाते हैं…

शेयर बाजार की मंदी, तेजी और तमाम गतिविधियों के लिए अलग शब्‍दों का क्या होता है स्टॉक मार्केट तथा शेयर मार्केट इस्‍तेमाल किया जाता है. अगर आप शेयर बाजार में नए-नए निवेशक बने हैं तो आपको शेयर मार्केट में इस्‍तेमाल किए जाने वाले कुछ बेसिक शब्‍दों के बारे में जरूर जानना चाहिए.

शेयर मार्केट में अभी-अभी एंट्री की है, तो इन बेसिक शब्‍दों का मतलब जान लें, जो मार्केट में रोज बोले जाते हैं…(Zee Biz)

पिछले कुछ समय से शेयर मार्केट में लोगों की दिलचस्‍पी तेजी से बढ़ी है. खासकर कोरोना काल के बाद तमाम डीमेट अकाउंट खोले गए हैं और शेयर मार्केट में नए निवेशक बढ़े हैं. अगर आप भी शेयर मार्केट में इंट्रेस्‍टेड हैं और इसमें पैसा लगाने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको शेयर बाजार में अधिकतर इस्‍तेमाल होने वाले कुछ शब्‍दों को अच्‍छी तरह से समझना होगा. शेयर बाजार की मंदी, तेजी और तमाम गतिविधियों के लिए अलग शब्‍दों का इस्‍तेमाल किया जाता है. यहां जानिए ऐसे ही कुछ बेसिक शब्‍दों का मतलब.


शेयर की फेस वैल्‍यू

किसी भी स्‍टॉक की शुरुआती कीमत के लिए फेस वैल्‍यू शब्‍द का इस्‍तेमाल किया जाता है. शेयर की फेस वैल्‍यू कंपनी तय करती है. फेस वैल्‍यू को ही आधार बनाकर डिविडेंड देने या स्टॉक स्प्लिट किया जाता है.

52 हफ्तों का हाई/लो

किसी स्टॉक के भाव जब पिछले 52 हफ्तों में सबसे ऊंची कीमत होते हैं तो इसके लिए 52 हफ्ते हाई शब्‍द का इस्‍तेमाल किया जाता है. वहीं 52 हफ्तों में स्‍टॉक की सबसे निचली यानी कम कीमत को 52 हफ्ते का लो कहा जाता है. ये दोनों टर्म्स इसलिए जरूरी हैं क्योंकि इन दोनों की मदद से किसी शेयर की कीमत का दायरा पता चलता है.

ट्रेंड

इस शब्‍द को भी आपको अच्‍छे से समझ लेना चाहिए क्‍योंकि शेयर क्या होता है स्टॉक मार्केट तथा शेयर मार्केट मार्केट में इसका बहुत ज्‍यादा इस्‍तेमाल किया जाता है. ये बाजार की दिशा की ओर इशारा करता है. अगर बाजार तेजी से नीचे जा रहा है तो कहा जाता है कि बाजार में गिरावट का ट्रेंड है. वहीं अगर बाजार न नीचे जाए और न ही ऊपर जाए, तो इसे साइडवेज ट्रेंड कहा जाता है.

बुल मार्केट और बेयर मार्केट

जब बाजार एक निश्चित समय में बहुत तेजी से ऊपर की ओर बढ़ता है तो इसे बुल मार्केट कहा जाता है. इसमें शेयर के रेट्स भी बढ़ते हैं. लेकिन जब बाजार तेजी से नीचे की ओर आता है तो कहा जाता है कि बाजार बेयर मार्केट में है.

स्‍टॉक मार्केट क्रैश

जब शेयर बाजार के ज्यादातर शेयर एक साथ बहुत ही कम समय में बहुत ज्यादा गिर जाते है, उस स्थिति को स्‍टॉक मार्केट क्रैश कहा जाता है. ये स्‍टॉक मार्केट में आयी मंदी है. ऐसे में ज्‍यादातर लोग शेयर ज्‍यादा गिरने के डर से इसे फटाफट बेचने लगते हैं.

शेयर बाजार

भंडारमंडी सार्वजनिक बाजारों को क्या होता है स्टॉक मार्केट तथा शेयर मार्केट संदर्भित करता है जो स्टॉक एक्सचेंज या ओवर-द-काउंटर पर व्यापार करने वाले शेयरों को जारी करने, खरीदने और बेचने के लिए मौजूद हैं। शेयर बाजार (शेयर बाजार भी कहा जाता है) पैसा निवेश करने के कई रास्ते देता है, लेकिन यह विश्लेषण के साथ किया जाना है (तकनीकी विश्लेषण ,मौलिक विश्लेषण आदि) और उसके बाद ही किसी को लेना चाहिएबुलाना कानिवेश.

stock-market

स्टॉक, जिसे . के रूप में भी जाना जाता हैइक्विटीज, एक कंपनी में आंशिक स्वामित्व का प्रतिनिधित्व करते हैं, और शेयर बाजार एक ऐसा स्थान है जहां निवेशक ऐसी निवेश योग्य संपत्तियों के स्वामित्व को खरीद और बेच सकते हैं। एक कुशलतापूर्वक कार्यशील शेयर बाजार को आर्थिक विकास के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है, क्योंकि यह कंपनियों को शीघ्रता से उपयोग करने की क्षमता देता हैराजधानी जनता से।

स्टॉक मार्केट में कौन काम करता है?

स्टॉक मार्केट से जुड़े कई अलग-अलग खिलाड़ी हैं, जिनमें ट्रेडर, स्टॉकब्रोकर, पोर्टफोलियो मैनेजर, स्टॉक एनालिस्ट और इनवेस्टमेंट बैंकर शामिल हैं। प्रत्येक की एक अनूठी भूमिका होती है।

शेयर दलालों

स्टॉकब्रोकर लाइसेंस प्राप्त पेशेवर हैं जो निवेशकों की ओर से प्रतिभूतियां खरीदते और बेचते हैं। ब्रोकर निवेशकों की ओर से स्टॉक खरीद और बेचकर स्टॉक एक्सचेंज और निवेशकों के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य करते हैं।

पोर्टफोलियो प्रबंधक

ये ऐसे पेशेवर हैं जो ग्राहकों के लिए पोर्टफोलियो, या प्रतिभूतियों का संग्रह निवेश करते हैं। इन प्रबंधकों को विश्लेषकों से सिफारिशें मिलती हैं और पोर्टफोलियो के लिए खरीदने या बेचने का निर्णय लेते हैं।म्यूचुअल फंड कंपनियां,हेज फंड, और पेंशन योजनाएँ निर्णय लेने के लिए पोर्टफोलियो प्रबंधकों का उपयोग करती हैं और उनके पास मौजूद धन के लिए निवेश रणनीतियाँ निर्धारित करती हैं।

स्टॉक विश्लेषक

स्टॉक विश्लेषक अनुसंधान करते हैं और प्रतिभूतियों को खरीदने, बेचने या रखने के रूप में मूल्यांकन करते हैं। यह शोध ग्राहकों और इच्छुक पार्टियों को प्रसारित किया जाता है जो यह तय करते हैं कि स्टॉक खरीदना या बेचना है या नहीं।

निवेश बैंकर

निवेश बैंकर विभिन्न क्षमताओं में कंपनियों का प्रतिनिधित्व करते हैं, जैसे कि निजी कंपनियां जो आईपीओ के माध्यम से सार्वजनिक होना चाहती हैं या ऐसी कंपनियां जो लंबित विलय और अधिग्रहण में शामिल हैं।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (NSE) मुंबई में स्थित भारत का प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज है। NSE की स्थापना 1992 में देश में पहले डिम्युचुअलाइज्ड इलेक्ट्रॉनिक एक्सचेंज के रूप में हुई थी। एनएसई एक आधुनिक, पूरी तरह से स्वचालित स्क्रीन-आधारित इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम प्रदान करने वाला देश का पहला एक्सचेंज था, जो आसान ट्रेडिंग की पेशकश करता थासुविधा देश भर में फैले निवेशकों के लिए।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज

1875 में स्थापित, बीएसई (पूर्व में के रूप में जाना जाता था)बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज Ltd.) एशिया का पहला स्टॉक एक्सचेंज है। यह दुनिया का सबसे तेज़ स्टॉक एक्सचेंज होने का दावा करता है, जिसकी औसत व्यापार गति 6 माइक्रोसेकंड है। बीएसई अप्रैल 2018 तक 2.3 ट्रिलियन डॉलर से अधिक के कुल बाजार पूंजीकरण के साथ दुनिया का 10 वां सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है।

आप शेयर बाजार में कैसे निवेश करते हैं?

शेयर बाजार में निवेश करना बहुत ही आसान प्रक्रिया है। आपको दो खाते खोलने होंगे- डीमैट औरट्रेडिंग खाते.

सबसे पहले, एक खोलने के लिएडीमैट खाता ऑनलाइन आपको कुछ दस्तावेजों की आवश्यकता है जैसे-

डीमैट खोलने के बाद, आप ऑनलाइन ब्रोकरों के साथ ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं।

You Might Also Like

Good information sir,thank you.

Get it on Google Play

AMFI Registration No. 112358 | CIN: U74999MH2016PTC282153

Mutual fund investments are subject to market risks. Please read the scheme information and other related documents carefully before investing. Past performance is not indicative of future returns. Please consider your specific investment requirements before choosing a fund, or designing a portfolio that suits your needs.

Shepard Technologies Pvt. Ltd. (with ARN code 112358) makes no warranties or representations, express or implied, on products offered through the platform. It accepts no liability for any damages or losses, however caused, in connection with the use of, or on the reliance of its product or related services. Terms and conditions of the website are applicable.

शेयर बाजार में क्या होती है Muhurt Trading, निवेशक क्यों मानते हैं इसे बेहद शुभ?

Diwali Muhurat Trading 2022: दिवाली के शुभ मुहूर्त पर शेयर बाजार में निवेश करने की परंपरा लंबे समय से चली आ रही है. इस दिन का इंतजार निवेशक साल भर करते हैं. इसके पीछे बेहद खास धारणा है. हर साल की तरह इस साल भी दिवाली पर शेयर बाजार में दांव लगाने की तैयारी इन्वेस्टर्स कर रहे हैं.

मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन निवेश को शुभ मानते हैं इन्वेस्टर्स

दीपक चतुर्वेदी

  • नई दिल्ली,
  • 19 अक्टूबर 2022,
  • (अपडेटेड 19 अक्टूबर 2022, 8:03 AM IST)

देशभर में दिवाली (Diwali) की धूम शुरू हो चुकी है और रोशनी के इस त्योहार में कुछ ही दिन बाकी हैं. भारतीय शेयर बाजार (Stock Market) में दिवाली के दिन भले ही छुट्टी रहती है, लेकिन इस दिन बाजार फिर भी एक घंटे के लिए खुलता है. दरअसल, शेयर मार्केट में दिवाली पर खास ट्रेडिंग की परंपरा काफी पुरानी है, जिसे मुहूर्त ट्रेडिंग (Muhurat Trading) के नाम से जाना जाता है. इस ट्रेडिंग के लिए विशेष तौर पर बाजार को ओपन किया जाता है.

एक घंटे के लिए खुलता है बाजार
Muhurat Trading के दौरान इस एक घंटे में निवेशक अपना छोटा निवेश करके बाजार की पुरानी परंपरा को निभाते हैं. यह ट्रेडिंग इक्विटी, इक्विटी फ्यूचर एंड ऑप्शन, करेंसी एंड कमोडिटी मार्केट, तीनों में होती है. इस बार दिवाली 24 अक्टूबर, 2022 को पड़ रही है. इस दिन बाजार में शाम 6.15 से 7.15 मिनट तक मुहूर्त ट्रेडिंग की जा सकती है. बता दें शाम 6 बजे से लेकर 6.10 बजे तक प्री-ओपन ट्रेडिंग सेशन का सत्र होगा.

पांच दशक से ज्यादा पुरानी परंपरा
शेयर बाजार में दिवाली के दिन एक घंटे के लिए मुहूर्त ट्रेडिंग की परंपरा पांच दशक से ज्यादा पुरानी है. मुहूर्त ट्रेडिंग का चलन बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) में 1957 और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) में 1992 में शुरू हुआ था. विशेषज्ञ बताते हैं कि मुहूर्त ट्रेडिंग पूरी तरह परंपरा से जुड़ी है. अधिकांश लोग इस दिन शेयर खरीदने को तरजीह देते हैं, हालांकि आमतौर पर ये इन्वेस्टमेंट काफी छोटे और प्रतीकात्मक होते हैं.

सम्बंधित ख़बरें

इस छोटी सी कंपनी को अडानी ग्रुप से मिला बड़ा ऑर्डर, शेयर बन गया रॉकेट
Anand Mahindra को भाए भारत के ये डेस्टिनेशन, कहा- विदेशी दोस्तों से करें शेयर
गुजरात के इन 3 बैंकों पर एक्शन, RBI ने बताया कि क्यों लगाया जुर्माना
किस बात से डर रहा है चीन? अचानक टाल दिया ये बड़ा फैसला
भारत कहां से खरीदता है सोना? आधा तो इस छोटे से देश से मंगाता है

सम्बंधित ख़बरें

इस दिन निवेश शुभ मानते हैं इन्वेस्टर्स
ऐसी मान्यता है कि इस दिन मुहूर्त ट्रेडिंग से समृद्धि आती है और पूरे साल इन्वेस्टर्स पर धन बरसता है. पुराने डाटा को देखें तो पता चलता है कि मुहूर्त ट्रेडिंग सेशन में निवेशक मूल्य-आधारित स्टॉक्स की खरीदारी करते हैं, जो लंबी अवधि के लिए अच्छे होते हैं. इस दौरान खरीदे गए शेयरों को निवेशक बेहद खास मानते हैं और यहां तक कि उन्हें अगली पीढ़ी तक ले जाते हैं. जैसी कि देश में मान्यता है कि दिवाली का दिन कुछ भी नया काम शुरू करने के लिए शुभ होता है. ठीक इसी धारणा के तहत शेयर बाजार इन्वेस्टर्स इस विशेष मुहूर्त ट्रेडिंग सत्र के दौरान स्टॉक मार्केट में अपना पहला निवेश करते हैं.

मुहुर्त ट्रेडिंग 2021 पर बाजार रहा था गुलजार
बीते साल 4 नवंबर, 2021 को मुहूर्त ट्रेडिंग का आयोजन किया गया था. इस एक घंटे के सेशन में बीएसई का सेंसेक्स 60 हजार के ऊपर पहुंच गया था. मुहुर्त ट्रेडिंग पर सेंसेक्स 60,067 अंकों के स्तर पर, जबकि क्या होता है स्टॉक मार्केट तथा शेयर मार्केट निफ्टी 17,921 के लेवल पर बंद हुआ था. हालांकि, साल 2022 में शेयर बाजार में खासी उथल-पुथल देखने को मिली है, लेकिन इसके बावजूद उम्मीद है मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान सेंसेक्स और निफ्टी में जोरदार तेजी देखने को मिलेगी.

स्टॉक मार्केट के मूल नियम और अवधारणा

इस कोर्स में स्टॉक मार्केट के जरूरी बातों को बताया गया है। इसके अलावा इस कोर्स में स्टॉक मार्केट के अन्य आवश्यक बातों की चर्चा भी की गयी है | स्टॉक मार्किट में प्रवेश करने वाले नए लोगो के लिए यह कोर्स बहुत उपयोगी होगा |

इस कोर्स को करने के बाद शेयर बाजार के बहुत सारी बातों और तकनीको के बारे में पता चलेगा ।

इस कोर्स के जरिए नए निवेशकों को स्टॉक मार्किट के मूल बातों की पूरी तरीके से जानकारी मिलेगी | इस कोर्स में शेयर मार्किट में विशेष रूप से उपयोग किये जाने वाले शब्दों को सरल तथा आसान तरीके से समझाया गया है | यह कोर्स शुरुआती लोगों और स्टॉक मार्केट में रूचि रखने वाले सभी लोगों के लिए बेहद जरूरी है। इस कोर्स के जरिए हमने शेयर मार्केट के मूलभूत तत्वों को सरल शब्दों में समझाया है।

About the Trainer

FinnovationZ India

Prasad Lendwe’s journey has been about learning from experience and dispensing the same to the masses and people around him. He pursued a Diploma in Electrical Engineering from Veermata Jijabai Technological Institute, Mumbai and later on a B.E in Electrical Engineering. He is a self taught person who has learned and is still learning from real life experiences and resources at hand. Talking about the nuances of stock market investment with the tinge of his personal experience his community (FinnovationZ India) grew exponentially, and now is a family of 1.5 million subscribers who love him for his simple and effective explanation about the nitty gritty of the finance world. His journey and efforts have been voluntarily covered by “bloomberg” “NDTV” “Quartz” “Startup Info” to name a few.

Objective

शेयर मार्किट में जो नए निवेशक है या फिर व्यापारी है, उनके लिए यह कोर्स बहुत लाभदायक रहेगा | इस कोर्स के द्वारा नए निवेशक को स्टॉक मार्केट के बारे में समझाने का प्रयास किया गया है। साथ ही रोचक ढ़ंग से स्टॉक मार्केट के बातों को बताकर मार्केट को आसान और सरल तरीके से समझाने की कोशिश की गई है।

Benefits

यह कोर्स स्टॉक मार्किट के मूल बातों को बहुत ही सरल तरीके से समझाता है| इस कोर्स को करने का सबसे बड़ा फ़ायदा होगा शेयर मार्किट के मूल बातों की जानकारी जो सबसे ज्यादा आवश्यक है | इस कोर्स से स्टॉक मार्केट में थोड़ी भी रुचि रखने वाला व्यक्ति,भी अच्छे से मार्केट के बारे में जानकारी पा सकता है।

Share Market Tips: ये इक्विटी शेयर क्या होते हैं? स्टॉक मार्केट में पैसा लगाने वाले जरूर जान लें यह बात

Share Market Tips इक्विटी का हिंदी अर्थ होता है हिस्सेदारी। इक्विटी आमतौर पर शेयरधारकों की कंपनी में हिस्सेदारी होती है। आप किसी कंपनी का शेयर खरीदते हैं तो असल में आपके पास उस कंपनी की हिस्सेदारी आ जाती है।

नई दिल्ली, ब्रांड डेस्क। निश्चल और मेधा दोनों अच्छे दोस्त हैं। दोनों एक ही आईटी फर्म में काम करते हैं। एक दिन दोनों समोसा खाने नीचे मार्केट में आए। समोसा खाते-खाते निश्चल ने मेधा से पूछ लिया- 'सुना है तुम्हें इन्वेस्टमेंट की बड़ी अच्छी समझ है। कहां लगाती हो पैसा?' मेधा ने कहा- 'यार में तो इक्विटी में पैसा लगाती हूं और अच्छा मुनाफा लेती हूं।' निश्चल शेयर मार्केट (Share Market) तो जानता था, लेकिन इक्विटी (Equity) उसे समझ नहीं पाया। शर्म के मारे वह पूछ भी नहीं पाया कि इक्विटी क्या होता है।

Make this Children Day special for your children by investing in their future

दरअसल, इक्विटी और शेयर बाजार एक ही है। कोई कहे कि वह इक्विटी में निवेश करता है, तो इसका मतलब है कि शेयर मार्केट में ही पैसा लगता है।

5paisa के साथ शुरू करें निवेश का सफर, विजिट करें- https://bit.ly/3n7jRhX

शेयरधारकों की कंपनी में हिस्सेदारी ही है इक्विटी

इक्विटी का हिंदी अर्थ होता है हिस्सेदारी। इक्विटी आमतौर पर शेयरधारकों की कंपनी में हिस्सेदारी होती है। आप किसी कंपनी का शेयर खरीदते हैं, तो असल में आपके पास उस कंपनी में हिस्सेदारी आ जाती है। अगर किसी कंपनी को बंद करना पड़े तो उसे लिक्विड करना होता है। ऐसे में कंपनी के सारे एसेट्स बिकने पर सभी कर्जे चुकाने के बाद जो राशि बचती है, वह इक्विटी के अनुपात में शेयरधारकों को क्या होता है स्टॉक मार्केट तथा शेयर मार्केट मिल जाती है। शेयरधारकों की इक्विटी किसी कंपनी की बुक वैल्यू को भी दर्शाती है।

Mutual Fund is a better investment option to create Lakhs

शेयर क्या होते हैं?

शेयर किसी कॉरपोरेशन में इक्विटी ऑनरशिप के यूनिट्स होते हैं। निवेशक कंपनी को पैसा देकर ये यूनिट्स यानी शेयर खरीदते हैं। कई कंपनियां अपने शेयरधारकों को समय-समय पर मुनाफे का कुछ हिस्सा डिविडेंड (Dividend) के रूप में देती है।

इक्विटी मार्केट क्या है?

एक इक्विटी मार्केट (Equity Market) वह मार्केट है, जहां कंपनियों के शेयर इश्यू और ट्रेड होते हैं। ये या तो एक्सचेंज या ओवर-द-काउंटर मार्केट्स के जरिए होते हैं। इक्विटी मार्केट को स्टॉक मार्केट या शेयर बाजार भी कहते हैं। यह कंपनियों को अपनी पूंजी बढ़ाने की सुविधा देता है। क्या होता है स्टॉक मार्केट तथा शेयर मार्केट निवेशक शेयर के रूप में कंपनी की एक छोटी सी हिस्सेदारी लेते हैं। इक्विटी मार्केट शेयर को बेचने वालों और खरीदने वालों के मिलने की एक जगह है। स्टॉक्स पब्लिक मार्केट और प्राइवेट मार्केट दोनों जगह इश्यू हो सकते हैं। यह इश्यू के प्रकार पर निर्भर करता है। पब्लिक स्टॉक जो होते हैं, वे स्टॉक एक्सचेंजों पर लिस्ट होते हैं। वहीं, प्राइवेट स्टॉक्स की ट्रेडिंग डीलर्स के जरिए होती है। इसे ओवर-द-काउंटर मार्केट कहते हैं।

If you need money then your Mutual Fund will be useful

अलग तरह से ट्रेड होते हैं प्राइवेट स्टॉक्स

जब कोई कंपनी खड़ी होती है, तो वह प्राइवेट कंपनी होती है। कुछ समय बाद वह आईपीओ लेकर आती है। यह उसकी पब्लिक कंपनी में बदलने की प्रक्रिया होती है। पब्लिक कंपनियां स्टॉक एक्सचेंजों पर लिस्ट होती हैं। प्राइवेट स्टॉक कुछ अलग तरह से ट्रेड होते हैं। ये केवल कर्मचारियों और कुछ निवेशकों को ही ऑफर किये जाते हैं। दुनिया के कुछ सबसे बड़े इक्विटी बाजार या शेयर बाजार न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज, नैस्डैक, टोक्यो स्टॉक एक्सचेंज, शंघाई स्टॉक एक्सचेंज और यूरोनेक्स्ट यूरोप हैं।

रेटिंग: 4.79
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 855
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *