नौसिखिया निवेशक के लिए एक गाइड

म्यूचुअल फंड

म्यूचुअल फंड
म्यूचुअल फंड हमेशा निवेशकों के लिए पसंदीदा विकल्प रहे हैं.

Mutual Fund: म्यूचुअल फंड में करना है इन्वेस्ट तो फोकस्ड फंड का करें चुनाव! मिलेगा मोटा रिटर्न

Investment Tips in Mutual Fund: इक्विटी फंड में निवेशकों का पैसा 50 से 100 स्टॉक्स में निवेश किया जा सकता है, लेकिन फोकस्ड फंड में यह सिमिट केवल 100 स्टॉक तक की है.

By: ABP Live | Updated at : 06 Sep 2022 09:49 AM (IST)

Mutual Fund Investment Tips: पिछले कुछ सालों में म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) में निवेश करने वालों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की गई है. इसका सबसे बड़ा कारण हैं कि इसमें निवेश करने पर आपको कम रिस्क (Less Risk Investment) में ज्यादा से ज्यादा रिटर्न का लाभ मिलता है. अगर आप छोटे-छोटे पार्ट में निवेश करना चाहते हैं तो एसआईपी (SIP) एक शानदार निवेश का ऑप्शन हो सकता है. यह निवेशकों को लंबे वक्त में बड़े फाइनेंशियल गोल्स (Financial Goals) को प्राप्त करने में मदद करता है. अगर आपको मल्टी टाइम रिटर्न (Multi Time Return) का लाभ प्राप्त करना हैं तो आपके लिए फोकस्ड फंड एक म्यूचुअल फंड इन्वेस्टमेंट (Focused Fund Mutual Fund Investment) का एक शानदार ऑप्शन है. अब सवाल उठता है कि फोकस्ड फंड (Focused Fund) क्या है. इसमें कैसे निवेश किया जा सकता है और इसमें आपको कितना रिटर्न मिल सकता है. आइए जानते हैं इस सभी सवालों के जवाब-

30 स्टॉक में किया ज्यादा है निवेश
आमतौर पर इक्विटी फंड में निवेशकों का पैसा 50 से 100 स्टॉक्स में निवेश किया जा सकता है, लेकिन फोकस्ड फंड में यह सिमिट केवल 100 स्टॉक तक की है. इन 30 स्टॉक्स में आपका पैसा फंड मैनेजर द्वारा किसी भी स्टॉक्स जैसे लार्ज कैप, मिडकैप और स्मॉल कैप किसी भी तरह के ऑप्शन में निवेश किया जा सकता है.

कुछ खास सलेक्टेड स्टॉक्स में पैसे किए जाते हैं निवेश
जैसा कि इस म्यूचुअल फंड के नाम से ही पता चलता है कि फोकस्ड फंड में आपके पैसों को कुछ खास सिलेक्ट फंड में निवेश किया जाता है. इन फंड का चुनाव केवल इस आधार पर होता है कि निवेशकों को कहां से ज्यादा से ज्यादा रिटर्न मिल सकता है. फोकस्ड फंड कुल दो तरीके के होते हैं. इसमें पहला फोकस्ड इक्विटी फंड और दूसरा फोकस्ड डेट फंड. फोकस्ड इक्विटी फंड का पैसा स्टॉक्स में निवेश किया जाता है. वहीं फोकस्ड डेट फंड का पैसा डेट मार्केट में निवेश किया जाता है.

किसी भी स्टॉक में पैसे किए जा सकते हैं निवेश
आपको बता दें कि फंड मैनेजर (Fund Manager) अपनी समझ और स्ट्रैटिजी के हिसाब से पैसों को निवेश करने की प्लानिंग बनाता है. इसके साथ ही फंड मैनेजर निवेशकों के पैसों को किसी भी सेक्टर के स्टॉक्स में निवेश कर सकता है, लेकिन इस स्टॉक्स की संख्या 30 से अधिक नहीं होनी चाहिए. इसमें फार्मा, एनर्जी, केमिकल आदि हर तरह के स्टॉक शामिल हैं.

News Reels

फोकस्ड फंड में यह लोग न करें निवेश
कई एक्सपर्ट्स का यह मानना है कि जिन लोगों ने पहली बार म्यूचुअल फंड में निवेश करना शुरू किया है वह लोग फोकस्ड फंड में निवेश से बचें. अगर आपके पास अनुभव नहीं है तो इसमें निवेश करना सही नहीं माना जाता है. पहले आप बाकी म्यूचुअल फंड में करके कुछ अनुभव प्राप्त कर लें और उसके बाद ही फोकस्ड फंड की तरफ बढ़े. इसमें आपको बेहतर रिटर्न मिलने में कम से कम 5 साल का वक्त जरूर लगता है.

ये भी पढ़ें-

Published at : 06 Sep 2022 10:15 AM (IST) Tags: Mutual fund investment tips Focused Funds हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: Business News in Hindi

म्यूचुअल फंड्स क्या हैं? – Mutual Funds kya hain?

म्यूचुअल फंड एक एैसा फंड है जो एैसेट मैनेजमेंट कंपनीस / कंपनीज (एएमसी) द्वारा मैनेज किया जाता है जिसमे ये कंपनीस कई इन्वेस्टर्स से पैसा जमा करती है और स्टॉक, बॉन्ड और शार्ट-टर्म डेट जैसी सिक्युरिटीज में पैसा इन्वेस्ट करती है।

म्यूचुअल फंड की कंबाइंड होल्डिंग्स को पोर्टफोलियो के रूप में जाना जाता है। इन्वेस्टर्स म्यूचुअल फंड के यूनिट्स खरीदते हैं। प्रत्येक यूनिट फंड में इन्वेस्टर के हिस्से के ओनरशिप और इससे होने वाली इनकम का रिप्रजेंटेशन करता है।

म्यूचुअल फंड इन्वेस्टर्स के बीच एक लोकप्रिय विकल्प (पॉपुलर ऑप्शन) हैं क्योंकि वे आम तौर पर निचे दिये गये विशेषताएं प्रदान करते हैं:

फंड प्रोफेशनल तरीके से मैनेज करते हैं:

फंड मैनेजर इन्वेस्टर्स के लिए रिसर्च करते हैं। वे सिक्युरिटीज का सिलेक्शन करते हैं और उनके परफॉरमेंस को मॉनिटर करते हैं।

फंड् diversification:

म्यूचुअल फंड आमतौर पर कई कंपनियों और इंडस्ट्रीज में इन्वेस्ट करते हैं। यह एक कंपनी के फ़ैल होने पर इन्वेस्टर्स के रिस्क को कम करने में मदद करता है।

लिक्विडिटी (Liquidity)

इन्वेस्टर्स आसान तरीके से अपने यूनिट्स को किसी भी समय रिडीम कर सकतें हैं।

इन्वेस्टर्स के पास म्यूचुअल फंड में अपना पैसा लगाने और अपनी संपत्ति बढ़ाने के कई विकल्प हैं। उदाहरण के लिए, इक्विटी (Equity) फंड्स, बॉन्ड फंड्स (फिक्स्ड इनकम फंड्स), डेट फंडस या फिर फंड्स जिनमे दोनों में इन्वेस्ट किया जा सकता हो, याने :बैलेंस फंड्स।

इक्विटी: शेयर्स (कॉमन स्टॉक), म्युचुअल फंड (MF): किसी कंपनी के शेयर खरीदना।

  • इक्विटी शेयरस लिक्विडिटी प्रदान करता; आप इनके वैल्यू बढ़ने पर, इन्हे बेच कर पैसा कमा सकतें है। कैपिटल मार्केट में आसानी से बिकता हैं।
  • अधिक लाभ की स्थिति में इनसे हाई रेट पर प्रॉफिट प्राप्त होता है।
  • इक्विटी शेयर होल्डर्स को कंपनी के मैनेजमेंट को नियंत्रित करने का कलेक्टिव अधिकार देता ह।
  • इक्विटी शेयर होल्डर्स को दो तरह से लाभ मिलता है, वार्षिक डिविडेंट और शेयर होल्डर्स के इन्वेस्टमेंट पर उसके मूल्य में वृद्धि होने के कारन से होने वाला लाभ ।
  • इक्विटी शेयरस में हाईएस्ट रिस्क होता है।
  • म्युचुअल फंड (MF) इसके तुलना में कम रिस्की होता है।
  • बहुत सारे इन्वेस्टर्स का कलेक्टिव फंड, एसेट मैनेजिंग कंपनीज द्वारा, अलग अलग सेक्टर्स के कंपनीज के शेयर्स खरीदने के लिए इन्वेस्ट कर, इन्वेस्टर्स को लाभ दिलाने के उद्देश्य से किया जाता है।
  • डेट फंडस (स्टॉक और एमएफ) : जब किसी कंपनी को फंड्स की ज़रूरत होती है तो वह इन्वेस्टर्स के पास से पैसा उधर के तौर पर लेती है। बदले में, वे एक स्थिर और नियमित इंटरेस्ट इन्वेस्टर्स को देना का वादा करती है। इस प्रकार, सरल शब्दों में, डेट फंड्स काम करते हैं।
  • इनकम फण्ड: इसमें इंटरेस्ट पर निर्णय लिया जाता है और मुख्य रूप से एक्सटेंडेड मचुरिटी वाले डेट सिक्युरिटीज में इन्वेस्ट किया जाता। यह उन्हें डायनेमिक बॉन्ड फंड की तुलना में अधिक स्थिर बनाता है। इनकम फंड की एवरेज मैच्योरिटी लगभग पांच से छह साल की होती है।
  • शॉर्ट-टर्म और अल्ट्रा शॉर्ट-टर्म डेट फंड: ये डेट फंड हैं जो एक साल से लेकर तीन साल तक की कम पीरियड के मैच्योरिटी वाले इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश करते हैं। कंसरवेटिव इन्वेस्टर्स शॉर्ट-टर्म फंड में इन्वेस्ट करना पसंद करते हैं, क्योंकि ये फंड इंटरेस्ट रेट के उतार-चढ़ाव से ज्यादा प्रभावित नहीं होते हैं।
  • लिक्विड फंड: लिक्विड फंड 91 दिनों से अधिक की मैच्योरिटी वाले डेट इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश नहीं करते हैं। यह उन्हें लगभग रिस्क फ्री बनाता है। लिक्विड फंडों ने शायद ही कभी नेगेटिव रिटर्न दिया है । ये फंडस हायर यील्ड्स के साथ साथ लिक्विडिटी भी प्रदान करते हैं। कई म्यूचुअल फंड कमनीयाँ लिक्विड फंड इन्वेस्टमेंट पर इंस्टेंट रिडेम्पशन (तत्काल पैसा निकलपने) की फैसिलिटी प्रदान करती हैं।
  • गिल्ट फंड: ये फंड केवल हाई रेटेड क्रेडिट, सरकारी सिक्युरिटीज में, जिन में बहुत कम रिस्क होता है, में इन्वेस्टइन्वेस्ट करते है। इस वज़ह से फिक्स्ड इनकम वाले इन्वेस्टर्स के बीच लोकप्रिय हैं, क्योकि वे ज्यादा रिस्क नहीं लेना चाहतें हैं।
  • क्रेडिट अपॉर्चुनिटीज फंड (FMP): ये तुलनामूलक नए डेट फंड हैं। अन्य डेट फंडों के तुलना में, क्रेडिट अपॉर्चुनिटीज फंड डेट इंस्ट्रूमेंट्स की मेचूरिटी पीरियड के अनुसार इन्वेस्ट नहीं करते हैं। ये फंड क्रेडिट रिस्क्स के अनुसार या हाई इंटरेस्ट रेट वाले, कम-रेटेड बॉन्डस में इनवेस्टेड रह कर हाईेर रिटर्न्स कमाने का प्रयास करते हैं। क्रेडिट अपॉर्चुनिटीज फंड रीलेटिव्ली रिस्की डेट फंड हैं।
  • फिक्स्ड मेचुरीटी प्लॉनस :(FMP) क्लोज-एंडेड डेट फंड हैं। ये फंड फिक्स्ड इनकम सिक्योरिटीज में भी इन्वेस्ट करते हैं। सभी FMP का एक फिक्स्ड समय होता है, जिस दौरान आपका पैसा लॉक-इन रहता है। यह समय महीनों या वर्षों में हो सकता है। आप केवल इनिशियल ऑफ़र पीरियड के दौरान ही इसमें इन्वेस्ट कर सकते हैं। यह एक फिक्स्ड डिपाजिट की तरह है जो बेहतर, टैक्स एफिसिएंट रिटर्न दे सकता है, लेकिन हाई रिटर्न की गारंटी नहीं देता है।
  • बैलेंस्ड या हाइब्रिड म्यूचुअल फंड, वन-स्टॉप (one -stop) इन्वेस्टमेंट ऑप्शन हैं जो इक्विटी और डेट दोनों सेगमेंट में इन्वेस्टमेंट ऑफर करते हैं। हाइब्रिड फंड का मुख्य उद्देश्य रिस्क-रिवॉर्ड के रेश्यो को बैलेंस करना और इन्वेस्टमेंट पर रेतुर्न को ऑप्टिमाइज़ (optimize) करना है।

इन सारे प्रकार के म्यूच्यूअल फंड्स में भी और खास तरह के फंड्स में इन्वेस्ट किया जा सकता है, जैसे सेक्टर-फंड् – जैसे फार्मा, हैल्थ केयर, बैंकिंग, आई टी, आदि, विशेष प्रकार के इंडस्ट्री में इन्वेस्ट करने का मौका देता है और ग्रोथ-फंड्स इन्वेस्टर्स को उन कम्पनीज के शेयर्स में इन्वेस्टमेंट पर फोकस प्रदान करता है जिनके कैपिटल वैल्यू में वृद्धि (Capital appreciation) हो ।

Mutual Funds: म्यूचुअल फंड में निवेश से होगी जबरदस्त कमाई, बस इन 5 टिप्स का रखें ध्यान

म्यूचुअल फंड में निवेश करते समय सही निर्णय लेने में आपको कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है. आपकी मदद के लिए यहां हमने कुछ अहम सुझाव दिए हैं.

Mutual Funds: म्यूचुअल फंड में निवेश से होगी जबरदस्त कमाई, बस इन 5 टिप्स का रखें ध्यान

म्यूचुअल फंड हमेशा निवेशकों के लिए पसंदीदा विकल्प रहे हैं.

Mutual Funds: म्यूचुअल फंड हमेशा निवेशकों के लिए पसंदीदा विकल्प रहे हैं. कई निवेशक अपने फाइनेंशियल गोल्स को हासिल करने के लिए म्यूचुअल फंड स्कीम्स में निवेश करते हैं. अक्सर पहली बार निवेश करने वाले निवेशक यह नहीं समझ पाते कि उन्हें कहां निवेश करना चाहिए और गलती कर बैठते हैं. ऐसे फर्स्ट टाइम इन्वेस्टर्स के लिए म्यूचुअल फंड एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है. इसके तहत, सही स्कीम चुनना जरूरी है ताकि आपको अधिकतम रिटर्न मिल सके. म्यूचुअल फंड में निवेश करते समय सही निर्णय लेने में आपको कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है. आपकी मदद करने के लिए यहां हमने कुछ अहम सुझाव दिए हैं.

रिस्क लेने की क्षमता का आकलन जरूरी

म्यूचुअल फंड में निवेश करने से पहले आपको अपनी जोखिम उठाने की क्षमता और निवेश रिटर्न की उम्मीद का आकलन करना चाहिए. उसके बाद आप सही म्यूचुअल फंड स्कीम का चयन करें जिसके ज़रिए आपको आपको बेहतर रिटर्न मिल सके. उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि आप अगले दस सालों में एक निश्चित अमाउंट बनाना चाहते हैं और आपकी जोखिम उठाने की क्षमता अधिक है. आप एक ऐसी म्यूचुअल फंड स्कीम चुन सकते हैं जो आपको आपकी जोखिम लेने की क्षमता के अनुसार हाई रिटर्न दे सके और 10 सालों के बाद आपके वित्तीय लक्ष्य को हासिल करने में मदद कर सके. आपको अपनी जोखिम उठाने की क्षमता के आधार पर यह समझना होगा कि किसी फाइनेंशियल गोल को हासिल करने के लिए म्यूचुअल फंड स्कीम में कितना निवेश करने की जरूरत है.

Paytm Q2 Results: पेटीएम का घाटा बढ़कर 571.5 करोड़, निवेशक रहें अलर्ट, IPO प्राइस से 70% नीचे आ चुका है शेयर

DCX Systems म्यूचुअल फंड IPO: लिस्टिंग पर शेयर दे सकता है 35% रिटर्न, आज अलॉट होगा शेयर, चेक कर लें आपको मिला या नहीं

Stock Market Strategy: सिर्फ 4 हफ्ते में 14% तक रिटर्न, ये 4 शेयर कर सकते हैं कमाल, क्‍या आप लगाएंगे पैसे

निवेश का डायवर्सिफिकेशन जरूरी

एक या दो म्यूचुअल फंड स्कीम्स में पूरे फंड का निवेश करने से आपको अधिक जोखिम उठाना पड़ सकता है. आपको अपने निवेश पोर्टफोलियो को अलग-अलग म्यूचुअल फंड स्कीम्स और अलग-अलग म्यूचुअल फंड कंपनियों में डायवर्सिफाई करना चाहिए. एक निवेशक के तौर पर आपके लिए यह जानना बेहद जरूरी है कि अपने पोर्टफोलियो में एसेट एलोकेशन कैसे किया जाए. निवेशक को अपनी पर्सनल इन्वेस्टमेंट गोल्स और जोखिम लेने की क्षमता को ध्यान में रखते हुए एसेट एलोकेट करना चाहिए. एसेट एलोकेशन निवेश की रणनीति बनाने में मदद करता है. एसेट एलोकेशन का एक फायदा यह है कि अगर किसी एक एसेट क्लास में उतार-चढ़ाव होता है तो जरूरी नहीं है कि दूसरे में भी हो.

स्कीम चुनने में बरतें सावधानी

यहां कई म्यूचुअल फंड कंपनियां हैं. इनके द्वारा कई तरह की स्कीम पेश की जाती हैं. आपको इनमें से अपनी जरूरत के अनुसार सही स्कीम का चुनाव करना होगा. अब सवाल यह है कि निवेश के लिए सबसे अच्छी स्कीम का चुनाव कैसे करें? किसी भी म्यूचुअल फंड स्कीम में निवेश से पहले आपको उनके पिछले प्रदर्शन, मैनेजमेंट एफिशिएंसी और एक्सपेंस रेश्यो की जांच करनी चाहिए. इसके साथ ही, अलग-अलग स्कीम की तुलना ऑनलाइन माध्यम से करनी चाहिए. रेगुलर प्लान्स की तुलना में डायरेक्ट प्लान्स को प्राथमिकता दें क्योंकि इनका एक्सपेंस रेश्यो कम होता है.

एकमुश्त निवेश या SIP इन्वेस्टमेंट

यदि आप एकमुश्त राशि निवेश करने की योजना बना रहे हैं, तो आप अधिक जोखिम नहीं लेना चाहेंगे. इसलिए, डेट फंड एक अच्छा विकल्प हो सकता है. अगर आप बेहतर रिटर्न के लिए मध्यम जोखिम लेने को तैयार हैं, तो आप बैलेंस्ड फंड में निवेश कर सकते हैं. ज्यादा रिटर्न के लिए आपको ज्यादा जोखिम उठाने होंगे. इसलिए, आप लार्ज-कैप इक्विटी फंड में निवेश के लिए जा सकते हैं. अलग-अलग स्कीम और म्यूचुअल फंड कंपनियों में अपने फंड को डायवर्सिफाई करें. अगर आप जोखिम को और कम करना चाहते हैं, तो आप एकमुश्त फंड को लिक्विड फंड में रख सकते हैं और एसटीपी विकल्प का उपयोग करके एक उपयुक्त म्यूचुअल फंड योजना में निवेश कर सकते हैं.

अगर आप लंबी अवधि में किस्तों में निवेश करते हुए फंड तैयार करना चाहते हैं, तो आप इक्विटी फंड में सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) के माध्यम से निवेश कर सकते हैं. एसआईपी आपको आकर्षक रिटर्न पाने में मदद कर सकता है, खासकर जब आप उतार-चढ़ाव भरे बाजार के बीच लंबी अवधि के लिए निवेश करते हैं.

पोर्टफोलियो की समीक्षा और री-बैलेंस जरूरी

म्यूचुअल फंड स्कीम्स में निवेश के दौरान समय-समय पर अपने पोर्टफोलियो की समीक्षा करना जरूरी है. हमेशा यह चेक करते रहें कि आपका निवेश कैसा प्रदर्शन कर रहा है. हो सकता है कि कभी-कभी यह आपके उम्मीदों के मुताबिक प्रदर्शन न करे. वहीं, कभी-कभी यह आपकी उम्मीदों से बेहतर प्रदर्शन कर सकता है. अगर यह आपकी उम्मीदों के मुताबिक प्रदर्शन न करे तो खराब प्रदर्शन वाले निवेश को बेहतर फंड में बदलना पड़ सकता है.

दूसरी ओर, अगर आपके पोर्टफोलियो ने आपकी उम्मीद से काफी बेहतर म्यूचुअल फंड प्रदर्शन किया है, तो आप हाई रिस्क वाली स्कीम से कम रिस्क वाली म्यूचुअल फंड स्कीम में स्विच कर सकते हैं और अर्जित रिटर्न को सुरक्षित करते हुए अपने पोर्टफोलियो को रि-बैलेंस कर सकते हैं. म्युचुअल फंड में कम उम्र से ही निवेश करना शुरू कर दें. लंबी अवधि के लिए निवेशित रहकर आपको निवेश पर लाभ को अधिकतम करने में मदद मिलेगी.

म्यूचुअल फंड के फायदे और नुकसान

म्यूच्यूअल फण्ड बहुत से लोगों से एकत्रित धन है जो शेयरों में व्यापार के सामान्य उद्देश्य को साझा करते हैं औरबांड.म्यूचुअल फंड्स फिर इस पैसे को अपने घोषित उद्देश्यों के आधार पर विभिन्न वित्तीय साधनों में निवेश करें। म्युचुअल फंड के मामले में ट्रेडिंग लागत कम है क्योंकि वे अधिक मात्रा में लेनदेन करते हैं। पहलेनिवेश किसी भी निवेश के रास्ते में, व्यक्ति हमेशा इसके फायदे और नुकसान को समझना पसंद करते हैं। इसी तरह, म्यूच्यूअल फण्ड के भी अपने फायदे और नुकसान हैं। तो, आइए इस लेख के माध्यम से म्यूचुअल फंड के फायदे और नुकसान पर एक नजर डालते हैं।

म्युचुअल फंड के लाभ

म्यूचुअल फंड के कुछ प्रमुख लाभ नीचे सूचीबद्ध हैं:

योजनाओं की विविधता

व्यक्तियों की विविध आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए फंड हाउस द्वारा डिजाइन की गई म्यूचुअल फंड योजनाओं की विभिन्न श्रेणियां हैं। म्यूचुअल फंड योजनाओं की व्यापक श्रेणियों में शामिल हैंइक्विटी फ़ंड,डेट फंड, तथाहाइब्रिड फंड. ये योजनाएँ जोखिम और प्रतिफल, निवेश की अवधि,आधारभूत पोर्टफोलियो संरचना, और इसी तरह। इन मापदंडों के आधार पर, जोखिम से बचने वाले व्यक्ति डेट फंड में निवेश करना चुन सकते हैं, जबकि जोखिम लेने वाले व्यक्ति इक्विटी फंड में निवेश करना चुन सकते हैं। जोखिम-तटस्थ व्यक्तियों द्वारा हाइब्रिड फंडों को चुना जा सकता है।

म्यूचुअल फंड के पोर्टफोलियो में कई शेयर, बॉन्ड म्यूचुअल फंड और कई अन्य वित्तीय साधन होते हैं। परिणामस्वरूप, व्यक्ति केवल म्यूचुअल फंड योजना में निवेश करके, विभिन्न उपकरणों में अपनी होल्डिंग में विविधता ला सकते हैं। इसके अलावा, व्यक्ति विभिन्न म्यूचुअल फंड योजनाओं में अपनी होल्डिंग में विविधता ला सकते हैं। उदाहरण के लिए, उच्च जोखिम-भूख वाले व्यक्ति अपनी हिस्सेदारी का बड़ा हिस्सा इक्विटी फंडों में निवेश करना चुन सकते हैं, उदाहरण के लिए उनके कुल निवेश का 60% और शेष ऋण में। इसके विपरीत, जोखिम से बचने वाले व्यक्ति इक्विटी में अपने निवेश का एक बड़ा हिस्सा, उदाहरण के लिए 70% निवेश करना पसंद करेंगे। इस प्रकार, व्यक्ति अपनी आवश्यकताओं के अनुसार अपनी जोत में विविधता ला सकते हैं।

छोटी मात्रा में निवेश करें

व्यक्ति कर सकते हैंम्युचुअल फंड में निवेश के माध्यम सेसिप या व्यवस्थितनिवेश योजना. एसआईपी म्यूचुअल फंड में निवेश का एक तरीका है जिसमें; व्यक्तियों को नियमित अंतराल पर छोटी मात्रा में निवेश करने की आवश्यकता होती है। SIP के माध्यम से, व्यक्ति विभिन्न उद्देश्यों को प्राप्त करने का प्रयास करता है जैसे कि घर खरीदना, वाहन खरीदना,सेवानिवृत्ति योजना, और इसी तरह। इसलिए, SIP को लक्ष्य-आधारित निवेश के रूप में भी जाना जाता है। व्यक्ति कम से कम 500 रुपये के न्यूनतम निवेश के साथ म्यूचुअल फंड में निवेश शुरू कर सकते हैं।

व्यावसायिक रूप से प्रबंधित

म्यूचुअल फंड योजनाओं का प्रबंधन योग्य पेशेवर विशेषज्ञों द्वारा किया जाता है। इन फंड मैनेजरों को शामिल करने से पहले उनकी साख की जांच की जाती है। ये लोग जानते हैंकहां निवेश करें ताकि वे ज्यादा से ज्यादा रिटर्न कमा सकें। इसके अलावा, ये म्यूचुअल फंड अच्छी तरह से विनियमित होते हैं। उन्हें नियमित अंतराल पर अपनी रिपोर्ट प्रकाशित करने की आवश्यकता होती है ताकि निवेशक यह समझ सकें कि म्यूचुअल फंड योजना कैसा प्रदर्शन म्यूचुअल फंड कर रही है। साथ ही, विभिन्न नियामक प्राधिकरणों द्वारा उनकी निगरानी की जाती है।

लिक्विडिटी

म्यूचुअल फंड ऑफरलिक्विडिटी जिसका अर्थ है कि व्यक्ति अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी समय म्यूचुअल फंड से अपना पैसा आसानी से निकाल सकते हैं। कुछ म्युचुअल फंड योजनाओं में, विशेष रूप से कुछलिक्विड फंड योजनाओं में, व्यक्ति अपना पैसा जमा करवा सकते हैंबैंक आदेश देने के 30 मिनट के भीतर खाता। अन्य योजनाओं में,मोचन निर्धारित दिशा-निर्देशों के अनुसार होता है। इसलिए, म्यूचुअल फंड के मामले में तरलता का स्तर अधिक होता है।

उपयोग की सरलता

म्यूचुअल फंड में निवेश विभिन्न चैनलों जैसे म्यूचुअल फंड वितरकों, फंड हाउस, दलालों और विभिन्न अन्य एजेंसियों के माध्यम से किया जा सकता है। हालांकि, वितरकों के माध्यम से जाना सुविधाजनक है क्योंकि व्यक्ति एक ही छत के नीचे विभिन्न फंड हाउस द्वारा दी जाने वाली कई योजनाएं पा सकते हैं। इसके अलावा, ये दलाल निवेश का एक ऑनलाइन तरीका प्रदान करते हैं जिसके माध्यम से व्यक्ति अपनी सुविधा के अनुसार कहीं से भी और किसी भी समय निवेश कर सकते हैं। इसके अलावा, वे ग्राहकों से कोई शुल्क नहीं लेते हैं।

म्यूच्यूअल फण्ड के विभिन्न लाभों को समझने के बाद, अब हम म्यूच्यूअल फण्ड के कुछ नुकसानों पर एक नज़र डालते हैं। ये म्यूचुअल फंड संकेत नीचे सूचीबद्ध हैं।

म्यूचुअल फंड के नुकसान

फायदे की तरह, म्यूचुअल फंड के भी अपने नुकसान हैं। ये सीमाएँ इस प्रकार हैं:

रिटर्न की गारंटी नहीं है

म्यूचुअल फंड पर रिटर्न की गारंटी नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पोर्टफोलियो का हिस्सा बनने वाले प्रत्येक उपकरण में जोखिम का एक निश्चित तत्व होता है। इसलिए, कुछ उपकरणों में जोखिम की डिग्री अधिक होती है जबकि अन्य में यह कम होती है। इसके अलावा, म्यूचुअल फंड के रिटर्न हैंमंडी-जुड़े हुए। इसलिए, म्यूचुअल फंड पर रिटर्न की गारंटी नहीं है। हालांकि, अगर इक्विटी फंड लंबी अवधि के लिए रखे जाते हैं तो जोखिम की संभावना कम हो जाती है। यहां तक कि एसआईपी मोड के जरिए निवेश करने पर भी व्यक्ति अपनी पूरी हिस्सेदारी को जोखिम में नहीं डालते। परिणामस्वरूप, व्यक्ति इन तकनीकों के माध्यम से अधिकतम संभव लाभ अर्जित कर सकते हैं।

खर्चे की दर

म्यूचुअल फंड के मामले में, इससे जुड़ी लागतें भी लाभ निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। यदि इससे जुड़े खर्च अधिक हैं, तो यह लाभ के एक पाई के हिस्से को खा जाएगा। इसलिए, व्यक्तियों को किसी भी म्युचुअल फंड में निवेश करने से पहले व्यय अनुपात की जांच करनी चाहिए ताकि भले ही वे अच्छा मुनाफा कमाएं फिर भी उन्हें हाथ में ज्यादा प्राप्त न हो।

लॉक-इन अवधि

कुछ म्यूचुअल फंड जैसे क्लोज-एंडेड वाले औरईएलएसएस एक लॉक-इन अवधि है जिसके दौरान व्यक्ति अपने पैसे को भुना नहीं सकते हैं। दूसरे शब्दों में, ऐसे निवेश में उनका पैसा अवरुद्ध हो जाता है। इसलिए, व्यक्तियों को लॉक-इन अवधि पर विचार करने में सावधानी बरतनी चाहिए अन्यथा, आवश्यकता पड़ने पर वे धन का उपयोग नहीं कर पाएंगे। हालांकि, ईएलएसएस का उज्जवल पक्ष यह है कि व्यक्ति INR 1,50 तक की कर कटौती का दावा कर सकते हैं,000 अंतर्गतधारा 80सी काआयकर अधिनियम, 1961।

इस प्रकार, उपरोक्त बिंदुओं से, यह कहा जा सकता है कि म्यूचुअल फंड के अपने फायदे और सीमाएं हैं।

सर्वश्रेष्ठ म्युचुअल फंड का चयन कैसे करें?

  • Step1: अपने निवेश उद्देश्य का वर्णन करें: व्यक्तियों को पहले म्यूचुअल फंड योजना में निवेश करने से पहले अपने निवेश उद्देश्य का वर्णन करना होगा। यहां, उन्हें निवेश पर अपने अपेक्षित रिटर्न, निवेश की अवधि, जोखिम-भूख और अन्य संबंधित कारकों को भी परिभाषित करना चाहिए। इससे उन्हें अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप योजना के प्रकार का चयन करने में मदद मिलेगी।
  • चरण 2: म्यूचुअल फंड रेटिंग का विश्लेषण करें: आवश्यकताओं के अनुरूप म्युचुअल फंड के प्रकार को चुनने के बाद, अगला कदम इसकी जांच करना हैम्यूचुअल फंड रेटिंग. इस चरण में, व्यक्तियों को योजना के पिछले प्रदर्शन, उसके एयूएम, पोर्टफोलियो संरचना, फंड की आयु, निकास भार और अन्य कारकों को सत्यापित करने की आवश्यकता होती है।
  • चरण 3: एएमसी पर शोध करें: अगला कदम इस पर शोध करना हैएएमसी. इस चरण में, व्यक्तियों को एएमसी और म्यूचुअल फंड योजना का प्रबंधन करने वाले फंड मैनेजर की साख की जांच करने की आवश्यकता होती है। एएमसी पर शोध महत्वपूर्ण है क्योंकि यह एएमसी है जो म्यूचुअल फंड योजना का प्रबंधन करती है।
  • Step4: अपने निवेश की निगरानी करें: यह अंतिम चरण है जहां व्यक्तियों को नियमित रूप से अपने निवेश की निगरानी करने की आवश्यकता होती है। यदि आवश्यक हो तो वे अधिकतम संभव रिटर्न अर्जित करने के लिए अपने पोर्टफोलियो को पुनर्संतुलित भी कर सकते हैं।

शीर्ष 5 म्युचुअल फंड

उपरोक्त मापदंडों के आधार पर कुछशीर्ष 5 म्युचुअल फंड इक्विटी श्रेणी के तहत नीचे सूचीबद्ध हैं:

गजब का म्यूचुअल फंड: ₹10,000 मासिक SIP को बना दिया ₹9.39 करोड़, ₹46800 टैक्स बचत भी कराता है

टैक्स-बचत विकल्प इक्विटी-लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) एक प्रकार का इक्विटी फंड है और यह एकमात्र म्यूचुअल फंड है, जिसमें आयकर अधिनियम की धारा 80 C के तहत 1.5 लाख रुपये तक की टैक्स छूट मिलती है।

गजब का म्यूचुअल फंड: ₹10,000 मासिक SIP को बना दिया ₹9.39 करोड़, ₹46800 टैक्स बचत भी कराता है

Mutual Fund: टैक्स-बचत विकल्प इक्विटी-लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) एक प्रकार का इक्विटी फंड है और यह एकमात्र म्यूचुअल फंड है, जिसमें आयकर अधिनियम की धारा 80 C के तहत 1.5 लाख रुपये तक की टैक्स छूट मिलती है। इसके अलावा ईएलएसएस फंड विविध इक्विटी फंड हैं जो लार्ज, मिड-कैप और स्मॉल-कैप कंपनियों सहित कई मार्केट कैप वाली कंपनियों में निवेश करते हैं। यही वजह है कि इस फंड को काफी पंसद किया जाता है।

फाइनेंस एक्सपर्ट इस फंड में लंबे समय तक निवेश को बनाए रखने की सलाह देते हैं। उनका मानना है कि लाॅन्ग टर्म में यह फंड हाई रिटर्न देने की क्षमता रखता है। आपको बता दें कि ईएलएसएस फंड (equity-linked savings scheme (ELSS)) से टैक्सपेयर्स सालाना 46,800 रुपये तक की बचत कर सकते हैं। यहां, हमने एचडीएफसी टैक्ससेवर फंड को एक उदाहरण के रूप में इस्तेमाल किया है, जिसने अपनी स्थापना के 26 साल पूरे कर लिए हैं और इसके निवेशक करोड़पति बन गए हैं।

एचडीएफसी टैक्ससेवर फंड
HDFC Taxsaver Fund को 31 मार्च, 1996 को लॉन्च किया गया। यानी एचडीएफसी टैक्ससेवर फंड रेगुलर प्लान-ग्रोथ ऑप्शन को अब लगभग 26 साल हो गए हैं। 31 मार्च, 2022 तक, फंड ने 21.27% के एसआईपी रिटर्न दिया है। फंड की स्थापना के बाद से एचडीएफसी टैक्ससेवर में किए गए ₹10,000 के मासिक निवेश यानी ₹31.20 लाख का कुल निवेश 31 मार्च, 2022 तक ₹9.39 करोड़ बन गया।

निवेशकों को तगड़ा रिटर्न
फंड ने 31 मार्च, 2022 तक 26.05% का 1 साल का रिटर्न दिया है, जो 22.29% के बेंचमार्क परफार्मेंस से अधिक है। पिछले तीन सालों में 11.64% का रिटर्न और पिछले पांच वर्षों में 9.44% का रिटर्न दिया है। फंड की स्थापना के बाद से, इसने 22.24% का वार्षिक रिटर्न दिया है, जो 14.25% के बेंचमार्क प्रदर्शन से अधिक है, इसलिए फंड के शुरुआती चरण से किए गए 10,000 रुपये का निवेश इस समय ₹1,857,705 होता।

रेटिंग: 4.70
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 805
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *