स्केलिंग रणनीतियां

बिटकॉइन किस देश की करेंसी है

बिटकॉइन किस देश की करेंसी है
RRB NTPC Result, Cut Off for Pay Level 5 declared for RRB Chandigarh. For other RRBs, the results will be released soon. Earlier, the RRB had released the tentative schedule for the upcoming DV &Medical Examination for various posts.. The RRB NTPC exam is conducted to fill up a total number of 35281 vacant posts. Candidates who are qualified for the Computer Based Aptitude Test will be eligible for the next round, which will be Document Verification & Medical Exam. The candidates with successful selection under RRB NTPC will get a salary range between Rs. 19,900 to Rs. 35,400. here.

Bitcoin Kya Hai Puri Jankari Hindi Me 2023 | बिटकॉइन क्या होता है?

Bitcoin Kya Hai Puri Jankari Hindi Me 2023 | बिटकॉइन क्या होता है? | भारत में क्या है क्रिप्टोकरेंसी का भविष्य? | बिटकॉइन अकाउंट | बिटकॉइन किस देश की करेंसी है | बिटकॉइन के नुकसान | बिटकॉइन का भविष्य | बिटकॉइन कैसे खरीदें | बिटकॉइन का भविष्य 2022

दुनियाभर के बाजारों में इस साल के शुरुआत से मंदी के कारण क्रिप्टो बिटकॉइन किस देश की करेंसी है बाजार में भी इसका असर देखने को मिला है। साल 2022 में भारत में Bitcoin से जुड़े कुछ नए नियम भी प्रभाव में आए हैं। Bitcoin से होने वाली आमदनी पर 30 प्रतिशत टैक्स और क्रिप्टो की लेनदेन में 1 प्रतिशत TDS का प्रावधान इनमें शामिल है।

Subscribe Youtube Click Here
Telegram Join Click Here
Follow on Twitter Click Here

Bitcoin Kya Hai Puri Jankari 2023

दुनियाभर के बाजारों में इस साल के शुरुआत से मंदी के कारण Bitcoin बाजार में भी इसका असर देखने को मिला है। बीते कुछ समय से बाजार में क्रिप्टोकरेंसी के कमजोर होने से बड़े पैमाने पर भारतीय निवेशक भी इससे पैसा बाहर निकालते दिख रहे हैं। इससे बाजार में इस बात पर बहस शुरू हो गई है कि क्या भारत में क्रिप्टोकरेंसी के दिन ढल गए हैं या एक बार फिर एनएफटी या क्रिप्टोकरेंसी के बाजार में रंगत लाैटेगी?

साल 2022 में भारत में Bitcoin से जुड़े कुछ नए नियम भी प्रभाव में आए हैं। क्रिप्टो से होने वाली आमदनी पर 30 प्रतिशत टैक्स और क्रिप्टो की लेनदेन में 1 प्रतिशत TDS का प्रावधान इनमें शामिल है। जानकार मानते हैं कि इसका असर क्रिप्टोकरेंसी में निवेश के आकड़ों पर देखने को मिल रहा है। ZebPay के सीईओ अविनाश शेखर के अनुसार नए नियमों के प्रभाव में आने से दिनोंदिन क्रिप्टों में निवेश और इससे जुड़े स्टार्टअप्स के शुरुआत होने के आंकड़ों में कमी देखने को मिली है।

बिटकॉइन क्या होता है?

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (World Economic Forum) के आंकड़ों के अनुसार साल 2022 में क्रिप्टोकरेंसी सेक्टर में टोटल मार्केट कैपिटलाइजेशन में 187.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखने को मिली थी। पूरे क्रिप्टोबाजार में सिर्फ बिटकॉइन ने ही लगभग 60 प्रतिशत (59.8%) रिटर्न दिया था।

साल 2021 में एनएफटी (Non-Fungible Token) और मेटावर्स बाजार में निवेश क्रमशः 65 मिलियन अमेरिकी डॉलर और 0.84 मिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश किया गया है। इन निवेशों को देखते हुए इस बात का अनुमान लगाया जा सकता है कि इस सेक्टर में निवेशकों का भरोसा बना हुआ है।

एनएफटी कंपनी nonfungible.com की एक स्टडी के अनुसार एनएफटी में निवेश के ओवरऑल परिदृश्य में साल 2022 में 21000 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखने को मिली है।
एनएफटी और मेटावर्स ने ब्लॉकचैन पर उपयोगकर्ताओं को स्वामित्व के प्रमाण की अनुमति भी दे दी है। gurdianlink के सीईओ और कोफाउंडर रामकुमार सुब्रमण्यम के अनुसार साल 2022 में भारतीय डिजिटल बाजार में एनएफटी के कई प्रारूप देखने को मिले। इस दौरान भारतीय सेलिब्रिटीज और ब्राण्ड्स ने भी खुलकर एनएफटी और मेटावर्स कल्चर की वकालत की है।

Blockchain क्या है?

Blockchain में Bitcoin क्रिप्टोकरेन्सी का पूरा लेखा-जोखा रखा जाता है। ये एक डिजिटल बहीखाता है, जिसमें लोगों द्वारा किये गए बिटकॉइन ट्रांसैक्शन का रिकॉर्ड या कहें कि एक डेटाबेस रखा जाता है। ये जानकारी अलग-अलग जगहों पर ब्लॉक में स्टोर होती है और ये ब्लॉक एक दूसरे से लिंक हुए रहते हैं। साथ ही एक अच्छी सुरक्षा के लिए ये एन्क्रिप्टेड भी होते हैं।

ये एक ओपन-सोर्स टेक्नोलॉजी है, यानि कि ये सार्वजनिक है और इसे कोई भी देख सकता है। ओपन सोर्स टेक्नोलॉजी द्वारा यहां कोई भी डाटा को जोड़ सकता है, लेकिन पहले से जो डाटा है, उसे आप ना तो बदल सकते हैं और ना ही हटा सकते हैं। साथ ही इसे आप कहीं कॉपी या ट्रांसफर करके भी नहीं रख सकते हैं। हालांकि यहां देश की सरकार का कोई दखल नहीं है, लेकिन फिर भी ब्लॉकचेन का डाटा काफी सुरक्षित माना जाता है।

ब्लॉकचेन को आप एक ऐसी तकनीक कह सकते हैं, जो आज के समय में Bitcoin क्रिप्टोकरेंसी के इस डेटाबेस को सुरक्षित करते हुए जोख़िम को कम करती है और इस मामले में धोखाधड़ी पर भी रोक लगाती है। साथ ही एक बड़े पैमाने पर ये पारदर्शिता भी बनाये हुए है।

Blockchain किस तरह से काम करता है ?

सबसे पहले यहां जान लेते हैं कि इसमें तीन कॉन्सेप्ट होते हैं – ब्लॉक (blocks), नोड्स (Nodes) और माइनर्स (Miners)। ब्लॉकचेन का डाटा बंटा हुआ रहता है और इसमें साड़ी ट्रांसैक्शन के पूरे डिटेल भी होते हैं। लेकिन ये इस तरह से काम करता है, ये समझना काफी मुश्किल है। यहां डेटाबेस को संभाले रखने के लिए माइनर्स द्वारा नए ब्लॉक जोड़े जाते हैं, लेकिन उनके लिए भी एक क्रोनोलॉजिकल आर्डर है। इसके लिए पहले आपको block, nonce, hash, Nodes, इन सबका मतलब जानना होगा।

यहां प्रत्येक चेन में कई सारे ब्लॉक हैं –

  • Data- डाटा एक ब्लॉक में रहता है।
  • Nonce – एक ब्लॉक के बनते ही, Nonce भी अपने आप बन जाता है, जो कि एक 32-bit नंबर है। इसके बाद ये ब्लॉक हैडर Hash को जन्म देता है।
  • Hash- Nonce के बाद, Hash एक 256 bit नंबर है जो कि काफी बड़ा है।

Miners क्या है ?

Miners का काम है चेन में आगे नए ब्लॉक बनाना। एक ब्लॉक में डाटा nonce और Hash में बंधा रहता है और Miners नए डाटा के लिए नए ब्लॉक बनाते हैं, जिसे माइनिंग कहते हैं। लेकिन ये उतना भी सरल नहीं है। एक Blockchain में सभी ब्लॉक के अपने अलग nonce और hash होते हैं, लेकिन वो पिछले ब्लॉक के hash का रेफ़्रेन्स भी देते हैं।

नया ब्लॉक बनाने के लिए Miners को एक ख़ास तरह के सॉफ्टवेयर द्वारा एक मुश्किल गणित (Maths) के सवाल को हल करना पड़ता है। यहां 32 bit nonce और 256 bit hash हैं, तो कुल मिलाकर nonce और hash के 4 बिलियन से भी ज़्यादा कॉम्बिनेशन बनते हैं, अब आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि एक सही कॉम्बिनेशन को ढूढ़ना या उसकी माइनिंग करना कितना मुश्किल रहता होगा। लेकिन इस कॉम्बिनेशन के मिलते ही, उसे माइनिंग की भाषा में गोल्डन नोंस (Golden nonce) कहा जाता है और इसके बाद ही चेन में एक नया ब्लॉक जुड़ता है। इस नए ब्लॉक को नेटवर्क में मौजूद सभी Nodes द्वारा स्वीकार किया जाता है और जिस माइनर ने ये ढूँढा है, उसे कुछ रिवॉर्ड मिलता है।

निम्न में से कौन सा देश बिटकॉइन को वैध मुद्रा के रूप में स्वीकार करने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है?

Key Points

  • सेंट्रल अमेरिकन देश अल साल्वाडोर ने दुनिया की सबसे बड़ी और लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी, बिटक्वाइन को देश की वैध मुद्रा बनाने के बिल को मंजूरी दे दी है।
  • यह बिटक्वाइन को वैध करेंसी घोषित करने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है।
  • अल साल्वाडोर की आधिकारिक मुद्रा अमेरिकी डॉलर है।
  • देश में अमेरिकी डॉलर पहले की तरह वैध मुद्रा बनी रहेगी और बिटक्वाइन का उपयोग वैकल्पिक रहेगा।
  • अल-सल्वाडोर की संसद में बिटकॉइन किस देश की करेंसी है बिटकॉइन को 62 की तुलना में 84 वोटों से मंजूरी दे दी गई ।
  • इस ऐलान के बाद बिटक्वाइन की कीमत 33,98 डॉलर से बढ़ कर 34,398 डॉलर पर पहुंच गई ।

भारत में बिटकॉइन का भविष्य

भारत के 10 करोड़ लोगों ने में 70 हजार Crore रुपये Cryptocurrency में पैसे इन्वेस्ट किये है लकिन भारत सरकार का इस पर कोई भी नियंत्रण नहीं है लेकिन सरकार अब इस पर बैन लगाने वाली है।

बिटकॉइन का भविष्य भारत मे बताना इतना आसान नही है , हालही में एक न्यूज आयी थी कि गोवर्नमेंट एक बिल पास करने जा रही है, जिसका नाम cryptocurreny बिल है, जिसे लोकसभा में पास करने के लिए भेजा है, खुपिया सूत्रों के अनुसार बिटकॉइन बंद हो सकती है, और जिन लोगो ने बिटकॉइन या अन्य altcoin खरीदे है उन्हें जेल हो सकती है।

लेकिन मुझे लगता है भारत मे लगभग बिटकॉइन किस देश की करेंसी है 10 करोड से भी ज्यादा लोगो ने बिटकॉइन या अन्य कॉइन्स में निवेश किया है, और भारत एक लोकतांत्रिक देश है लोगोके हिसाब से सब चलता है। गोवर्नमेंट cryptocurrency को पूरी तरह से बैन नही कर सकती लेकिन उनपर कुछ पाबंदी डाल सकती है।

Bitcoin कैसे खरीदें?

आजकल बिटकॉइन या अन्य कोई करेंसी खरीदना या बेचना बहोत ही आसान बन चुका है, भारत मे आप बहोत सारे पॉपुलर ऍप्स जैसे wazirx और conswitch kuber जैसे ऍप्स के इस्तेमाल कर बिटकॉइन आसानी से buy या sell कर सकते हो।

bitcoin kis desh ki currency hai?

दोस्तों बिटकॉइन किसने बनाया? क्यों बनाया और कैसे बनाया यह तो किसी को नहीं बिटकॉइन किस देश की करेंसी है पता है. और यह किस देश की करेंसी है यह भी नहीं कहा जा सकता.

Bitcoin kis desh ki currency hai

लेकिन एक देश है जीस देश ने Bitcoin को अपनी official currency मानी है. उस देश का नाम liberland है.बिटकॉइन किस देश की करेंसी है

कही सारे येसे भी देश है जहा पर Bitcoin Banned है. और कही सारे देशों में इसे मान्यता मिली है.

Bitcoin ka malik kon hai (bitcoin founder)

ऐसा कहा ज्याता हैं कि Satoshi Nakamoto ने bitcoin का निर्माण किया.

लेकिन अभितक किसी को नही पता की यह. Satoshi Nakamoto कहा रहता है और वे दिखता कैसा है.

कही सारे लोगो का ऐसा कहना है की ये जो नाम है Satoshi Nakamoto यह बड़ी बड़ी कंपनी ने मिलकर बनाया है

जैसे की (sa से Samsung) (to से toshiba) (Naka से Nakamichi) और (Moto से Motorola)

इन सभी बड़ी बड़ी कंपनियो ने मिलकर Bitcoin का निर्माण किया है. ऐसा कही सारे लोगो का दावा है. लेकिन इसकी सच्चाई कोई नही जानता.

इसे भी पढ़े
Morse code kya hai
pyarikhabar.com
What is haarp technology in Hindi

बिटकॉइन कैसे काम करता है

दोस्तो bitcoin एक Digital currency है. जिसे हम छू नही सकते. क्यू की यह electric from में होती है.

जिस वजह से इस Bitcoin का लेने देन online तरीके से होता है.

और दोस्तो bitcoin ek decentralised currency है. मतलब की इसे कोई भी Bank या government कंट्रोल नही कर सकती.

दोस्तो bitcoin बिलकुल internet जैसा है मतलब की इंटरनेट का कोई भी मालिक नहीं है वैसे ही बिटकॉइन का कोई भी मालिक नहीं है.

bitcoin blockchain concept पर काम करता है. मतलब की जब हम बैंक में पैसे जमा करते हैं या निकालते है तो उसका हिसाब किताब आपके खाते में जमा होता है.

और bitcoin का सारा हिसाब किताब public बिटकॉइन किस देश की करेंसी है Account में जमा होते हैं. उसे ही blockchain कहा जाता है. और ये सबसे secured तरीका है.

रेटिंग: 4.97
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 604
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *