प्रवृत्ति पर व्यापार

क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें?

क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें?

बिटकॉइन से पैसे कैसे कमाएं।

क्या आपको पता है Bitcoin क्या है, इसके क्या फायदे हैं और बिटकाॅइन से पैसे कैसे कमाएं। इस आर्टिकल में हम बिटकाॅइन बारे में जानेंगे। Bitcoin एक क्रिप्टो करेंसी है। यह पूरी तरह से डिजिटल करेंसी है। वर्तमान में हजारों Crypto Currency हैं। लेकिन बिटकॉइन सबसे पुरानी करेंसी है। इसे सन् 2009 में जापान के सतोशी नाकामोतो ने बनाया था। Bitcoin केवल online ही उपयोग किया जा सकता है। इसे आभासी मुद्रा भी कहते हैं।

बिटकॉइन के क्या उपयोग है | Use of Bitcoin

  1. गुप्त तरीके से देश के बाहर पैसा भेजना के लिए बिटकॉइन का उपयोग किया जा सकता है। यह सब पूरी तरह गुप्त रहता है, क्योंकि बिटकॉइन किसी संस्था नियंत्रण में नहीं है और इसे online यूज किया जा सकता है।
  1. बिटकॉइन का उपयोग ऑनलाइन खरीदारी के लिए भी कर सकते हैं। जो कि सुरक्षित तरीका है।
  1. लोग इसका उपयोग धन छिपाने के लिए भी करते हैं। बिटकॉइन में पैसा लंबे समय के लिए इन्वेस्ट करके भी रख सकते हैं।
  1. बिटकॉइन बेचकर जो पैसा मिलता है उसे आप सीधे अपने बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर सकते हैं।

बिटकॉइन की कीमत जानन लिए आप गूगल सर्च कर सकते हैं। जैसे 1 bitcoin in INR सर्च करके इसकी मौजूदा कीमत आ जाएगी।

बिटकॉइन खरीदकर और बेचकर पैसा कमाए

वेसै तो बिटकॉइन खरीदने और बेचने के लिए बहुत सारी वेबसाइट और मोबाइल एप्स मौजूद है।

लेकिन मैं आज आपको बताऊंगा कि कैसे आप अपने फोन से bitcoin खरीद और बेचकर पैसे कमा सकते हैं। मोबाइल फोन के लिए भी बहुत सारे ऐप हैं। लेकिन मैं आपको wazirx के बारे में बताने जा रहा हूं।

Wazirx क्या है

Wazirx इंडियन ऐप है जो cryptocurrency exchange के लिए बनाया गया है जो कि Peer to Peer crypto Transaction स्वीकार करता है। इस company के तीन co-founders हैं, जिन्होंने इसे 2010 में बनाया था यह एक बहुत ही successful app रहा है. इनका मुख्य office Mumbai में स्थित हैं।

ऐप डाउनलोड करें

Wazirx में आप bitcoin या कोई भी अन्य क्रिप्टोकरेंसी का भी लेनदेन कर सकते हैं। इसके लिए आपको अपने मोबाइल फोन पर प्ले स्टोर में जाकर Wazirx टाइप करें और सर्च करें। सर्च होने पर ऐप को डाउनलोड कर दीजिए

अकाउट बनाएं

अब इसमें आपको अकाउंट खोलना है जिसके लिए निम्न चीजों की जरूरत पड़ेगी

मोबाइल नंबर, ईमेल एड्रेस, आधार कार्ड, पैन कार्ड, और बैंक अकाउंट जैसे डॉक्यूमेंट की जरूरत पड़ेगी।

इसमें अकाउंट बनाना बहुत ही आसान है। ऐप ओपन करने के बाद आपको ईमेल एड्रेस और मोबाइल नंबर डालकर वेरीफाई करना होता है

KYC करें

इसके बाद KYC करनी होती है इसके लिए Form भरना है इसमें आपको personal detail address भरना है ध्यान रहे पूरी डिटेल डॉक्यूमेंट के मैच हो। डॉक्यूमेंट सबमिट होने के पहले सारी चीजें एक बार देख ले कहीं किसी चीज में गलती ना हो। अब documents upload करके सारी चीजें सबमिट करें। सबमिट करने के बाद 24 से 48 घंटे में आपकी KYC verify हो जाएगा।

यदि किसी कारणवश आपका अकाउंट verify ना हो पाए तो आपके लिए एक मेल आएगा। जिसमें अकाउंट वेरीफाई पूरी detail detail रहेगी कि अकाउंट वेरीफाई क्यों नहीं हुआ।

Wazirx में आप दो तरीके से क्रिप्टो करेंसी का लेन देन कर सकते हैं।

1. Peer to peer transaction

इसमें आप डायरेक्ट किसी दूसरे व्यक्ति से क्रिप्टो खरीद या उसे बेच सकते हैं, इसमें आपको बिल्कुल भी चार्ज फीस नहीं लगता। ट्रांजैक्शन तब तक पूरी नहीं होती जब तक कि दो लोगों के बीच buy और sell मैच नहीं हो जाता।

2. Cryptocurrency exchange

इस तरीके से आप सीधे cryptocurrency खरीद करते हैं। इसमें बिल्कुल भी समय नहीं लगता लेकिन इसमें लेन देन करने के लिए ट्रांजेक्शन फीस लगती है।

इसमें आप तभी पैसे कमा सकते हैं जब आप बिटकाॅइन कम कीमत पर खरीदकर अधिक कीमत पर बेचेंगे। जितनी अधिक कीमत पर बेचेंगे उतना ही परसेंटेज के हिसाब से आपको मुनाफा होता है। लेकिन यह खतरे से खाली भी नहीं है। कीमत गिरने पर भी नुकसान होना स्वाभाविक है।

दोस्तों इस आर्टिकल में मैंने आपको bitcoin के बारे में बताया है । इसे आप Wazirx से खरीद सकते हैं। जो कि एक इंडियन ऐप है। इसे crypto लेन देन के लिए बनाया गया है। इसके जरिए आप मोबाइल से ही क्रिप्टोकरेंसी खरीद और बेच सकते हैं। दोस्तों यह आर्टिकल आपको कैसा लगा, कमेंट में जरूर बताएं और अपने दोस्तों के साथ आर्टिकल को शेयर करें ऐसे ही आने वाले आर्टिकल के लिए हमारा ब्लॉक फॉलो करें। धन्यवाद!

IQ Option पर क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें?

IQ Option पर क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें?

कई विशेषताएं हैं जो IQ Option प्लेटफॉर्म पर क्रिप्टोकरेंसी को इतना आकर्षक बनाती हैं। इनमें से एक बड़ी मात्रा में नकदी रखने या प्रबंधित किए बिना लोगों को व्यापार करने की इसकी क्षमता है। प्लेटफ़ॉर्म के बारे में एक और बढ़िया पहलू यह है कि इस पर क्रिप्टोकरेंसी खरीदने और बेचने के लिए आपको विशेषज्ञ होने की ज़रूरत नहीं है। इस मैनुअल में आपने जो पढ़ा है, उसके अलावा आपको और कुछ जानने की आवश्यकता नहीं है और यह उतना ही है जितना कि किसी और को इस रोमांचक नए निवेश अवसर में निवेश शुरू करने के लिए जानने की आवश्यकता है। एक बार जब आप IQ Option प्लेटफॉर्म पर क्रिप्टोकरेंसी खरीदना सीख जाते हैं, तो आप विदेशी मुद्रा व्यापार की दुनिया में एक विशेषज्ञ बनने के अपने रास्ते पर होंगे।

IQ Option प्लेटफॉर्म पर क्रिप्टोकरेंसी में निवेश

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, जब आप IQ Option पर क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करते हैं तो आप वास्तविक धन के साथ व्यापार कर रहे होते हैं, लेकिन आप वास्तव में कुछ भी नहीं खरीद रहे होते हैं। इसके बजाय, आप सूचीबद्ध मुद्राओं के भविष्य के मूल्य आंदोलनों पर अनुमान लगा रहे हैं। इसका मतलब है कि अगर आप सही मुद्रा चुनते हैं तो आप काफी पैसा कमा सकते हैं। वास्तव में, यदि आप गलत मुद्रा चुनते हैं तो बहुत सारा पैसा कमाना संभव है, लेकिन अगर आप सही मुद्रा चुनते हैं तो काफी पैसा खोना भी संभव है। इसलिए, निवेशकों के लिए अपने निवेश में विविधता लाना समझदारी है। IQ Option पर क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना सुनिश्चित करता है कि वे ऐसा ही करते हैं।

बेशक, IQ Option पर क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप कितना निवेश करना चाहते हैं। यदि आपके पास निवेश करने के लिए कुछ अतिरिक्त नकदी है, तो आप कम निवेश करके भी शुरुआत कर सकते हैं। इसलिए यह सोचना जरूरी है कि निवेश शुरू करने से पहले आप कितना पैसा गंवाने को तैयार हैं। एक बार जब आप जान जाते हैं कि आप कितना खोना चाहते हैं, तो यह IQ Option पर अपनी क्रिप्टोकरेंसी को बेचने के लिए सर्वोत्तम स्थान खोजने की एक सरल प्रक्रिया है। IQ Option पर क्रिप्टोकरेंसी खरीदना सीखने का यह शायद सबसे कठिन हिस्सा है।

आपको कितनी क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार करना चाहिए?क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें?

आपको कितनी क्रिप्टोकरेंसी खरीदनी चाहिए यह निर्भर करता है कि आप कितना पैसा जोखिम में डाल सकते हैं? अगर कुछ गलत होता है तो आप अपना सारा निवेश खो सकते हैं इसलिए मानसिक रूप से तैयार रहें।

IQ Option पर क्रिप्टोकरेंसी खरीदने के लिए बस IQ Option वेबसाइट पर जाना है। IQ Option ब्रोकर आपको अपनी आवश्यकताओं के आधार पर एक या कई प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी के लिए ट्रेड करने देता है, चाहे आप उन्हें भविष्य में खरीदना या बेचना चाहें। इसमें ऐसे उपकरण भी हैं जो आपको बाजार में कारोबार की जा रही विभिन्न क्रिप्टोकरेंसी के वर्तमान मूल्य का पता लगाने की अनुमति देंगे ताकि आप इस बारे में सूचित निर्णय ले सकें कि आपको क्या खरीदना या बेचना चाहिए।

IQ Option वेबसाइट आपको उनके प्लेटफॉर्म पर क्रिप्टोकरेंसी खरीदने के लिए चरण-दर-चरण पूरी प्रक्रिया से रूबरू कराएगी। आप बस IQ Option ब्रोकरेज के साथ साइन अप करेंगे जो यह सेवा प्रदान करता है, एक खाता बनाता है, इसमें फंड जोड़ता है, और चुनें कि आप आज कौन सी क्रिप्टोकरेंसी खरीदना चाहते हैं। एक बार जब आपके पास सब कुछ सेट हो जाता है, तो आप अपनी चुनी हुई मुद्रा या तो ब्रोकर के माध्यम से खरीद सकते हैं या कई ऑनलाइन ब्रोकरों में से एक के माध्यम से इसे स्वयं खरीद सकते हैं। इसे स्वयं करने का सबसे अच्छा हिस्सा यह है कि एक बार जब आप अपना ऑर्डर दर्ज करते हैं, तो आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपके चुने हुए क्रिप्टोकुरेंसी के लिए आपकी भविष्य की कीमत कम हो जाती है क्योंकि बाहरी कारकों के जवाब में बाजार में उतार-चढ़ाव होता है जैसे कि विभिन्न देशों में अधिकारियों द्वारा जारी आर्थिक डेटा, और अन्य ताकतें जो बाजार को प्रभावित करती हैं।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है- जानें इस्तेमाल, प्रकार से लेकर सबकुछ | What Is Cryptocurrency – Know Uses, Types And Everything

क्रिप्टोकरेंसी क्या है

करेंसी जिसको हिंदी में हम मुद्रा के नाम से जानते हैं. आमतौर पर मुद्रा का काम होता है किसी भी चीज की कीमत चुकाना. हालांकि मुद्रा का इतिहास मानव इतिहास के मुकाबले नया है. और काफी समय पहले लोग चीजें खरीदने के लिए बार्टर सिस्टम का इस्तेमाल करते थे. यानि सामान के बदले सामान लेकिन जैसे-जैसे मानव सभ्यता में बदलाव होते गए वैसे-वैसे मानव सभ्यताओं में मुद्रा का चलन भी बढ़ गया. आज भारत की मुद्रा रुपया है वहीं अमेरिका की मुद्रा डॉलर है. लेकिन बढ़ते टेक्नोलॉजी के चलन में पूरे विश्व की मुद्रा के रूप में उभर कर आई है क्रिप्टोकरेंसी. यह फिजिकल रूप में न हो कर क डिजिटल होती है. इसका इस्तेमाल इंटरनेट के जरिए किया जाता है. Happy To Advise के इस लेख में हम आपको क्रिप्टोकरेंसी से जुड़ी तमाम चीजें व क्रिप्टोकरेंसी के जरिए पैसे कमाने के तरीके बताएंगे.

  1. क्रिप्टोकरेंसी क्या है ?
  2. क्रिप्टोकरेंसी का आविष्कार कब हुआ?
  3. क्रिप्टोकरेंसी के प्रकार
  4. क्रिप्टोकरेंसी की विशेषताएं
  5. क्रिप्टोकरेंसी के नुकसान
  6. क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें?

क्रिप्टोकरेंसी क्या है | What is Cryptocurrency ?

क्रिप्टोकरेंसी डिजिटल करेंसी है. इसे एक डिसेंट्रलाइज्ड सिस्टम द्वारा मैरिज किया जाता है. इसके माध्यम से आप दुनिया में कहीं भी ट्रांजैक्शन कर सकते हैं. इसके ट्रांजैक्शन डिजिटल सिगनेचर द्वारा वेरीफाई भी किए जाते हैं. जिन्हें क्रिप्टोग्राफी की मदद से ट्रांजैक्शन्स का रिकॉर्ड रखा जाता है. यह ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर आधारित करेंसी है. और इसे कॉपी करना लगभग असंभव है. इसकी कीमत समय-समय पर बदलती रहती है. साथ ही इसके क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें? कई प्रकार भी होते हैं. हालांकि कई देशों में यह आज भी अवैध है

क्रिप्टोकरेंसी का आविष्कार कब हुआ | How Cryptocurrency Is Invented ?

दुनिया में इंटरनेट का इतिहास बहुत अधिक पुराना नहीं है. इंटरनेट की शुरुआत 1990 के आसपास हुई थी. उस दौरान बहुत कम ही लोग इंटरनेट पर इस्तेमाल कर पाते थे. लेकिन उस समय भी कई लोग इसकी ताकत को जानते थे. लोग इस पर लगातार नए नए प्रयोग कर रहे थे उनमें से एक था डिजिटल करेंसी बनाने का प्रयोग. जापान के एक इंजीनियर सतोशी नाकामोतो ने 2008 में बिटकॉइन बनाया था. और 2009 में इसे ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के रूप में लांच किया गया था. इसी वजह से बिटकॉइन की सबसे छोटी यूनिट को सातोशी के नाम से जाना जाता है जैसे 1 रुपए में 100 पैसे होते हैं. उसी तरह एक बिटकॉइन में 10 करोड़ सातोशी होते हैं. इसके बाद तमाम लोगों ने अलग-अलग क्रिप्टोकरेंसी का आविष्कार किया.

क्रिप्टोकरेंसी के प्रकार | Types Of Cryptocurrency

शुरुआती दौर में तो केवल बिटकॉइन ही एकमात्र क्रिप्टोकरेंसी था. लेकिन धीरे-धीरे इंटरनेट एक्सपर्ट्स ने तमाम तरीके की क्रिप्टोकरेंसी की शुरुआत कर दी उनमें से कुछ प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी निम्नलिखित हैं.

  • बिटकॉइन (BTC) – बिटकॉइन दुनिया की सबसे पहली क्रिप्टोकरेंसी है इसे 2009 में सातोशी नाकामोटो ने बनाया था और आज भी यह दुनिया की सबसे अधिक वैल्यू वाली क्रिप्टोकरेंसी है.
  • ईथोरियम (ETH) – यह Coinmarket cap के हिसाब से दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी है. इसे 2015 में लांच किया गया था यह ईथर नाम से भी प्रसिद्ध है.
  • लाइटकॉइन (LTC) – लाइट कॉइन भी अन्य तरीके की क्रिप्टोकरेंसी की ही तरह एक पॉपुलर क्रिप्टोकरेंसी है. यह डिसेंट्रलाइज होने के साथ-साथ पियर टू पियर टेक्नोलॉजी के तहत भी काम करती है. इसकी शुरुआत सन 2011 में हुई थी.
  • डोजकॉइन (DOG) – जब बिटकॉइन काफी प्रसिद्ध था तो उस दौरान डोजकॉइन ने उसकी तुलना एक कुत्ते से कर दी थी. लेकिन बाद में डोजकॉइन खुद भी एक क्रिप्टोकरेंसी बन गया.
  • पियरकॉइन (PPC) – पीयरकॉइन क्रिप्टोकरेंसी पियर टू पियर क्रिप्टोकरेंसी की तरह ही काम करती है. इसकी माइनिंग के लिए अधिक पावर की आवश्यकता नहीं होती है.

क्रिप्टोकरेंसी की विशेषताएं | Features Of Cryptocurrency

क्योंकि क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल करेंसी है तो ऐसे में इसे इस्तेमाल करने के कई सारे फायदे होते हैं इसे इस्तेमाल करने के कुछ प्रमुख फायदे निम्नलिखित हैं

  • क्रिप्टोकरेंसी के लिए आपको किसी बैंक की जरूरत नहीं पड़ती है. आप बिना बैंक के हस्तक्षेप के इसे खरीद बेच सकते हैं
  • क्रिप्टोकरेंसी की ट्रेडिंग करना काफी ज्यादा आसान होता है. इसकी ट्रेडिंग के लिए इंटरनेट पर कई सारे वैलेट प्रचलिच हैं.
  • क्रिप्टोकरेंसी के इस्तेमाल में किसी भी तरीके का सरकारी हस्तक्षेप नहीं होता है.
  • क्रिप्टोकरेंसी की निगरानी क्रिप्टोग्राफी नामक तकनीक से की जाती है. तो ऐसे में उसकी सुरक्षा में चूक की संभावनाएं लगभग शून्य हो जाती है.
  • क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज द्वारा ट्रांजैक्शन पर किसी तरह की का कोई ट्रांजैक्शन चार्ज नहीं लिया जाता है.
  • क्रिप्टोकरेंसी हाल-फिलहाल चलने वाली सभी मुद्राओं में सबसे अधिक सुरक्षित मानी जाती है.

क्रिप्टोकरेंसी के नुकसान | Disadvantages Of Cryptocurrency

हर सिक्के के 2 पहलू तो होते ही हैं. इसी तरीके से क्रिप्टोकरेंसी के लिए कुछ फायदे हैं तो उन फायदों के साथ कुछ नुकसान भी उसके साथ आते हैं.

  • क्रिप्टोकरेंसी इंटरनेट आधारित करेंसी है. तो ऐसे में इसे हैक किया जा सकता है. ईथेरियम नामक करेंसी के साथ ऐसा हो भी चुका है.
  • क्रिप्टोकरेंसी पर किसी भी सरकारी अथॉरिटी का कोई नियंत्रण नहीं होता है. ऐसे में इसकी कीमतों को रेगुलेट नहीं किया जा सकता इसीलिए इसकी कीमत में अप्रत्याशित रूप से उतार चढ़ाव देखा जाता है.
  • क्रिप्टो करेंसी दुनिया के लिए अभी एक नया ट्रेन है तो ऐसे में अगर आप भूल से किसी के दूसरे व्यक्ति को यह करेंसी ट्रांसफर कर देते हैं तो उसे वापस पाने की कोई तकनीकी नहीं है
  • दुनिया के कई देशों में इसके प्रतिबंधित होने का सबसे बड़ा कारण है अवैध कामों में इसका उपयोग इसीलिए इसे भी क्रिप्टोकरंसी का एक बड़ा नुकसान माना जाता है

क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें | How To Trade Cryptocurrency

इस लेख में आपने क्रिप्टोकरेंसी से जुड़ी तमाम जानकारियों को पढ़ा. अब हम आपको बताएंगे क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें? कि आप किस तरीके से क्रिप्टोकरंसी खरीद या बेच सकते हैं. क्रिप्टोकरेंसी की ट्रेडिंग के लिए आपको एक ऑनलाइन वैलेट की जरूरत होगी. इस वैलेट में ही आपकी करेंसी होल्ड की जाएगी. आप वैलेट की मदद से क्रिप्टो करेंसी के मूल्य के बराबर रुपए चुका कर उसे खरीद सकते हैं और जब आपको क्रिप्टो करेंसी की कीमत में इजाफा दिखे तब आप उसको बेच सकते हैं. इस तरीके से क्रिप्टोकरेंसी इन्वेस्टमेंट का एक अच्छा जरिया है. हालांकि भारत में इसका मुद्रा के रूप में इस्तेमाल करना प्रतिबंधित है.

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल | FAQs

प्रश्न.क्रिप्टोकरेंसी क्या है?

उत्तर: क्रिप्टोकरेंसी डिजिटल करेंसी है. इसे एक डिसेंट्रलाइज्ड सिस्टम द्वारा मैरिज किया जाता है. इसके माध्यम से आप दुनिया में कहीं भी ट्रांजैक्शन कर सकते हैं.

प्रश्न.क्या क्रिप्टोकरेंसी भारत में लीगल है?

उत्तर: आप भारत में वैलेट के जरिए इसकी ट्रेडिंग की जा सकती है. हालांकि भारत में इसका मुद्रा के रूप में इस्तेमाल करना प्रतिबंधित है.

प्रश्न.क्रिप्टोकरेंसी में कैसे निवेश करें?

उत्तर: क्रिप्टोकरेंसी की ट्रेडिंग के लिए आपको एक ऑनलाइन वैलेट की जरूरत होगी. इस वैलेट में ही आपकी करेंसी होल्ड की जाएगी. आप वैलेट की मदद से क्रिप्टो करेंसी के मूल्य के बराबर रुपए चुका कर उसे खरीद सकते हैं और जब आपको क्रिप्टो करेंसी की कीमत में इजाफा दिखे तब आप उसको बेच सकते हैं. इस तरीके से क्रिप्टोकरेंसी इन्वेस्टमेंट का एक अच्छा जरिया है.

प्रश्न.क्या भारत के बाजारों में क्रिप्टोकरेंसी इस्तेमाल की जा सकती है?

उत्तर: जी नहीं, आप हाल फिलहाल भारत के बाजारों में क्रिप्टोकरेंसी इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं.

क्या देश में क्रिप्टो अब कानूनी हो गया? 30% टैक्स के बाद अगर आप भी इसे लीगल मान रहे हैं तो जानिए क्या है हकीकत

Cryptocurrency in India: वित्तमंत्री के बजट भाषण के बाद इतना तो साफ हो गया है कि भारत में अब वर्चुअल एसेट (Virtual Asset) से होने वाली कमाई पर 30% टैक्स लगेगा. इतना ही नहीं, क्रिप्टोकरेंसी के हर एक ट्रांजैक्शन (Transaction) पर अलग से 1% TDS (Tax deduction at source) सरकार को देना होगा.

Cryptocurrency: हम जिसे क्रिप्टोकरेंसी मान रहे हैं और वित्तमंत्री ने जिसे Virtual asset कहा उससे होने वाली कमाई पर 30% टैक्स लगेगा. बजट 2022 में यही एक प्वाइंट था, जिसने सबका ध्यान खींचा. बजट में ऐलान के बाद क्रिप्टो में निवेश करने वाले निराश हुए होंगे और इसके कारोबार से जुड़े कुछ लोग खुश भी हुए होंगे. खुशी इसलिए क्योंकि, कई लोग ये दावा कर रहे हैं कि अब क्रिप्टोकरेंसी देश में लीगल हो गई है. ये इस बात से भी साफ होता है कि बजट में ऐलान के ठीक बाद क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज WazirX, Coinswitchkuber की तरफ से रिएक्शन आए कि सरकार यह कदम अच्छा है. लेकिन, यहां थोड़ा सा कन्फ्यूजन है. पहले समझते हैं कि वित्तमंत्री ने क्या कहा और उसका इंटरप्रिटेशन करने वाले कहां चूक कर रहे हैं.

डिजिटल करेंसी नहीं एसेट पर लगा है टैक्स

सबसे पहले तो ये समझिए सरकार ने जो टैक्स लगाया है वो डिजिटल एसेट या यूं कहें क्रिप्टोकरेंसी (Cyrptocurrency) जैसे बिटकॉइन पर लगा है, जो फिलहाल लीगल नहीं है. गौर करने की बात ये है कि सरकार इसे करेंसी नहीं मान रही है. तो अब भारत में डिजिटल एसेट (Cryptocurrency) से होने वाली कमाई पर 30% टैक्स लगेगा. मतलब अब अगर कोई व्यक्ति किसी डिजिटल एसेट (Digital Asset) में निवेश करके 100 रुपए का मुनाफा कमाता है, तो उसे 30 रुपए टैक्स के रूप में सरकार को देने होंगे.

ट्रांजैक्शन पर TDS भी वसूलेगी सरकार

क्रिप्टोकरेंसी के हर एक ट्रांजैक्शन (Transaction) पर अलग से 1% TDS (Tax deduction at source) सरकार को देना होगा. मान लीजिए, किसी ने कोई क्रिप्टोकरेंसी खरीदी हुई है. ये उसका निवेश है. मतलब उसका ये Asset हुआ. अब अगर खरीदने वाला इस एसेट को किसी और को ट्रांसफर करता है, तो उसे अलग से उस Asset की कुल कीमत पर 1% के हिसाब से TDS चुकाना होगा. TDS किसी Source पर लगाया जाता है. जैसे आपको हर महीने मिलने वाली तनख्वाह पर सरकार जो टैक्स लेती है, वो TDS होता है. कुल मिलाकर सरकार डिजिटल करेंसी को एक इनकम सोर्स मान रही है. इसकी कमाई पर 30% टैक्स भी लगा दिया गया क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें? है.

Zee Business Hindi Live TV यहां देखें

तो क्या क्रिप्टो करेंसी लीगल हो गई?

बजट में हुए इस ऐलान के बाद ज्यादातर लोगों के मन में ये सवाल है कि क्या सरकार ने डिजिटल करेंसी पर टैक्स लगा कर इसे लीगल कर दिया है? जवाब है- नहीं. इसे ऐसे समझिए, सरकार सिर्फ उस डिजिटल करेंसी (Digital Currency) को लीगल यानी वैध मानती है, जिसे Reserve Bank of India-RBI जारी करता है या करेगा. मतलब अभी जो Bitcoin जैसी Crypto Currency हैं, वो वैध नहीं है. बजट भाषण के बाद पत्रकारों से सवाल-जवाब में वित्तमंत्री ने साफ किया कि क्रिप्टो की वैधता को लेकर सरकार में चर्चा जारी है लेकिन अब तक कोई फैसला नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि सेंट्रल बैंक के फ्रेमवर्क के बाहर जो भी क्रिप्टोकरेंसी हैं, वे करेंसी नहीं हैं. अगर कोई आपसे कहे कि ये लीगल हो गई हैं तो जब तक सरकार नहीं कहती, मानिएगा नहीं. यहां पर गौर करने की बात ये भी है कि सरकार अप्रैल से शुरू होने वाले कारोबारी साल में अपनी डिजिटल करेंसी लाने की भी तैयारी में है जिसका क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें? जिक्र वित्तमंत्री ने अपने भाषण में किया. जाहिर है ये करेंसी पूरी तरह लीगल होगी.

क्रिप्टो पर कन्फ्यूजन फैला क्यों?

वर्चुअल एसेट पर 30 परसेंट टैक्स का एलान होते ही कई लोगों ने ये मान लिया कि जो चीज टैक्स के दायरे में आ गई वो तो लीगल हो गई. जबकि ऐसा नहीं है. इनकम टैक्स एक्ट के मुताबिक आपकी आय कहीं से भी हो, सरकार उस पर टैक्स वसूलती है. इससे आपके आय के लीगल होने की गारंटी नहीं मिल जाती. टैक्स एक्सपर्ट वेद जैन (Tax Expert Ved Jain) के मुताबिक, इनकम टैक्स प्रोविजन में साफ है कि आपकी कहीं से भी कमाई हुई है, उस पर टैक्स स्लैब के मुताबिक टैक्स की देनदारी बनेगी. चाहे इनकम सोर्स वैध हो या फिर अवैध. सुप्रीम कोर्ट ने भी काफी वक्त पहले स्मगलिंग बिजनेस के मामले में ऐसा ही फैसला सुनाया था. इसलिए ऐसी कोई एसेट पर लगने वाले टैक्स को लीगल कहना सही नहीं है.

वर्चुअल एसेट से वित्तमंत्री का मतलब क्या है?

आसान तरीके से समझें तो आप जो सोना खरीदते हैं या जो घर खरीदते हैं, वो आपकी Assets होती है. मतलब आपकी सम्पत्ति, ना कि ये करेंसी है. ठीक इसी तरह Crypto Currency भारत सरकार के लिए एक Asset होगी और इस पर लोगों से टैक्स वसूला जाएगा. अगर आप ये सोच रहे हैं कि Bitcoin, Ethereum, Tether, Ripple जैसी डिजिटल करेंसी को लीगल माना गया है तो तकनीकी तौर पर बिल्कुल सही नहीं है. हालांकि, लोग इसमें निवेश कर सकेंगे.

इस टैक्स के पीछे क्या है सरकार की मंशा

सरकार के प्रतिनिधियों ने ये भी बताया कि देश में क्रिप्टोकरेंसी ट्रांजैक्शन साल 2017 से ही सरकार के राडार पर है. इस पर टैक्स लगाने से सरकारी खजाने में मोटी रकम पहुंचनी तय है. अभी अमेरिका, ब्रिटेन, इटली, Netherlands और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में वर्चुअल करेंसी (Virtual Currency) पर वहां की सरकारें टैक्स लगाती हैं. सरकार के इस फैसले के पीछे एक बड़ी वजह ये हो सकती है कि, हमारे देश में जितने लोगों ने CryptoCurrency में निवेश किया है, वो देश की आबादी का लगभग 8% हैं. RBI के आंकड़ों के मुताबिक, इन लोगों ने अपने 70 हजार करोड़ रुपए इस समय ऐसी Virtual Currency में लगाए हुए हैं. पूरी दुनिया में CryptoCurrency में ट्रेड करने के मामले में भारतीय सबसे आगे हैं. सरल शब्दों में कहें तो ये 30 प्रतिशत टैक्स, सीधे तौर पर 70 हजार करोड़ रुपए के निवेश को एक गारंटी देगा और हो सकता है कि भारत में इसका इस्तेमाल बढ़ जाए.

गिफ्ट पर भी लगेगा टैक्स, ऐसे होगा कैलकुलेट

बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने वर्चुअल एसेट्स (Virtual Assets) के ट्रांजैक्शन से हुई कमाई पर 30% टैक्स लगाने का प्रस्ताव किया. क्रिप्टोकरेंसी गिफ्ट करने को भी ट्रांजेक्शन माना जाएगा. मतलब अगर आप क्रिप्टोकरेंसी किसी को गिफ्ट में देते हैं तब भी 30 फीसदी टैक्स की देनदारी बनेगी. गिफ्ट किए जाने के मामले में उस समय की वैल्यू पर टैक्स लगेगा. इस वैल्यू को Recipient का इनकम माना जाएगा और उसे वैल्यू पर टैक्स देना होगा.

कब से लगेगा नया टैक्स?

एक और बात जो नोटिस करने वाली है कि ये नया टैक्स आने वाले कारोबारी साल यानी 1 अप्रैल से लागू होगा. यानी क्रिप्टो में कारोबार करने वालों के पास फिलहाल 31 मार्च तक की मोहलत है. वित्त मंत्री ने यह भी प्रस्ताव किया कि डिजिटल क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें? एसेट्स के दायरे में क्रिप्टोकरेंसी के अलावा NFT समेत सारे टोकन आते हैं, जो सेंट्रल बैंक के फ्रेमवर्क में नहीं हैं. वित्त मंत्री ने यह भी बताया कि रिजर्व बैंक की डिजिटल करेंसी आने आने वाली है. ये सारे बदलाव बजट पर कैबिनेट की मुहर लगने के बाद 1 अप्रैल 2022 से लागू हो जाएंगे.

crypto पर सरकार कैसे वसूलेगी टैक्स और क्या पूरे क्रिप्टो निवेश पर देना होगा कर? जानिए इससे जुड़े हर सवाल का जवाब

बिजनेस डेस्क: केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस बार बजट में एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि भारत में अब डिजिटल ऐसेट (इसमें क्रिप्टोकरेंसी भी शामिल) पर भी टैक्स लगेगा। क्रिप्टोबाजार में दिलचस्पी दिखाने वाले लोगों ने इस कदम का स्वागत किया क्योंकि यह देश में लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी जैसे बिटकॉइन, एथेरियम और अन्य को एक तरह से कानूनी दर्जा देता है। हालांकि, इसके बाद वित्त मंत्री ने जब कहा कि सभी क्रिप्टोकरेंसी से होने वाली आय पर 30 प्रतिशत तक का भारी कर लगेगा, तो ये कई लोगों को निराश कर गया। दरअसल यह म्युचुअल फंड या यहां तक ​​कि शेयरों से होने वाली आय पर आप जितना भुगतान करते हैं, उससे भी कहीं अधिक है।

हालांकि बजट भाषण के बाद सरकार की ओर से ये भी साफ किया गया कि क्रिप्टो पर नुकसान होता है तो अन्य ऐसेट के जरिए भरपाई की कोई व्यवस्था नहीं है। वित्त मंत्री ने डिजिटल संपत्ति के लेन-देन पर एक प्रतिशत टीडीएस लगाने का भी प्रस्ताव किया। सीतारमण ने लोकसभा में वित्त वर्ष 2022-23 का बजट पेश करते हुए कहा कि क्रिप्टो और डिजिटल संपत्तियों में उपहार पर कर लगेगा। संसद में बजट पारित होने के बाद कर प्रस्ताव एक अप्रैल से अमल में आएगा। निर्मला सीतारमण की ओर से क्रिप्टो पर लगाए गए टैक्स को लेकर घोषणाओं के बाद अब भी कई सवाल इसका इस्तेमाल कर रहे लोगों के मन में घूम रहे हैं।

आइए आज हम आपको इसके बारे में विस्तार से जानकारी देने की कोशिश करते हैं-

क्रिप्टोकरेंसी पर कैसे लगेगा टैक्स
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि क्रिप्टोकरेंसी से होने वाली आय पर 30 प्रतिशत कर लगाया जाएगा। उदाहरण के लिए यदि आप अपने बिटकॉइन बेचकर 100 रुपए कमाते हैं, तो आपको सरकार को क्रिप्टो टैक्स के रूप में 30 रुपए का भुगतान करना होगा। इंडिया टुडे के अनुसार सेबी के पंजीकृत वित्तीय सलाहकार जितेंद्र सोलंकी का मानना ​​है कि क्रिप्टोकरेंसी पर 30 प्रतिशत कर लगाकर सरकार क्रिप्टो निवेश को संभवत: हतोत्साहित करना चाहती है।

क्या मुझे अपने पूरे क्रिप्टो निवेश पर टैक्स का भुगतान करना होगा?
नहीं, आपको केवल अपनी आय या क्रिप्टोकरेंसी से लाभ पर ही कर का भुगतान करना होगा। उदाहरण के लिए यदि आपने 5,000 रुपए की क्रिप्टोकरेंसी खरीदी है और 5,500 रुपये में बेचते हैं तो केवल 500 रुपये पर 30 प्रतिशत कर लगेगा, न कि पूरे निवेश पर ये लागू होगा।

लॉन्ग टर्म लॉस के खिलाफ सेट ऑफ का क्या मतलब है?
मौजूदा आयकर कानून करदाताओं को लंबी अवधि के पूंजीगत लाभ में अपने दीर्घकालिक नुकसान को समायोजित करने की अनुमति देते हैं। दूसरे शब्दों में यह करदाताओं को उनके दीर्घकालिक लाभ पर कर का भुगतान करने से छूट देता है। हालांकि, क्रिप्टो आय के मामले में ऐसा संभव नहीं होगा।

अगर मैंने किसी को बिटकॉइन गिफ्ट किया है तो
नहीं, वित्त मंत्री ने साफ किया है कि केवल क्रिप्टोकरेंसी प्राप्त करने वाले व्यक्ति पर कर लगाया जाएगा। इसलिए अगर आप अपने दोस्त को 1 बिटकॉइन गिफ्ट कर रहे हैं तो उसे उस ट्रांजैक्शन पर टैक्स देना होगा।

कौन से लेनदेन पर 1% TDS लगेगा?
वित्त मंत्री ने स्पष्ट किया कि होने वाले सभी क्रिप्टो लेन-देन पर 1 प्रतिशत कर कटौती होगी।

क्या टैक्स का मतलब है कि क्रिप्टो करेंसी को सरकार ने मान्यता दे दी?
नहीं, भारत में अभी भी कोई क्रिप्टो को लेकर कोई कानून नहीं है। टैक्स लगाने का मतलब है कि यह क्रिप्टो लेनदेन को वैधता देता है और सरकार ऐसे में सभी लेनदेन की निगरानी कर सकती है। आसान शब्दों में, यह भारत में क्रिप्टोकरेंसी को वैध बनाता है।

क्या बिटकॉइन अब एक मुद्रा है?
नहीं, वित्त मंत्री ने यह भी स्पष्ट किया है कि केवल भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी डिजिटल मुद्रा को मुद्रा के रूप में मान्यता दी जाएगी। बिटकॉइन और अन्य क्रिप्टोकरेंसी को केवल डिजिटल संपत्ति के रूप में वर्गीकृत किया गया है। इसका मतलब है कि जब आप उनमें निवेश कर सकते हैं, तो उनका उपयोग चीजों को खरीदने के लिए नहीं किया जा सकता है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

बड़ी संख्या में प्रवासियों के आगमन के बीच अमेरिका के सीमा एजेंसी प्रमुख ने इस्तीफा दिया

बड़ी संख्या में प्रवासियों के आगमन के बीच अमेरिका के सीमा एजेंसी प्रमुख ने इस्तीफा दिया

पानीपत में विरोधी गिरोह के सदस्यों की हत्या में शामिल तीन गैंगस्टर दिल्ली से गिरफ्तार

पानीपत में विरोधी गिरोह के सदस्यों की हत्या में शामिल तीन गैंगस्टर दिल्ली से गिरफ्तार

यूपी निकाय चुनावः कांग्रेस के क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें? प्रांतीय अध्यक्ष देंगे तैयारियों को धार

यूपी निकाय चुनावः कांग्रेस के प्रांतीय अध्यक्ष देंगे तैयारियों को धार

पंजाब में बढ़ रहा डेंगू का कहर, अब तक इतने मामलों सहित 10 की हो चुकी है मौत

पंजाब में बढ़ रहा डेंगू का कहर, अब तक इतने मामलों सहित 10 की हो चुकी है मौत

UP: भाभी से अवैध संबंध का चला पता तो छोटे ने कर दी बड़े भाई की हत्या, पुलिस ने किया खुलासा

रेटिंग: 4.85
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 723
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *