ट्रेडिंग विचार

खरीद विकल्प पुट

खरीद विकल्प पुट
फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है Basics of Future and Option trading for Beginners in Hindi

Option ट्रेडिंग और Call & Put की सभी जानकारिया जानिए Option Trading In Hindi

Option trading in hindi, option trading kya hai, option chain analysis in hindi, खरीद विकल्प पुट angel broking option trading hindi, option trading kaise karte hain, what is option trading in hindi, option trading kaise karte hain.

आज हम शेयर मार्किट में ऑप्शन ट्रेडिंग what is option trading in share market की सभी जानकारियों को हासिल करेंगे ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं और ये क्या होती है जिसके बाद आप ट्रेंडिंग करनी आसान लगे।

Option Trading In Hindi- मार्किट में निवेश करने से पहले हम सभी जानकारिया जान लेने के बाद कुछ रणनीति बनाते है की आप किस प्रकार के शेयर में हम निवेश करेंगे और किस प्राइज में हम निवेश करेंगे ये भी स्टॉक मार्किट का हिस्सा है इस रणनीति का हिस्सा ऑप्शन ट्रेंडिंग भी है आज इस आर्टिकल में हम जानेगे की ऑप्शन ट्रेडिंग Option Trading In Hindi क्या होती है और ये किस प्रकार काम करती है।

ऑप्शन ट्रेडिंग क्या होती है? Option Trading In Hindi

What is Option Trading in Hindi- ऑप्शन ट्रेडिंग को समजने के लिए काफी गहराई में जानना पड़ता है ऑप्शन ट्रेडिंग कोई सिंपल स्टॉक में निवेश करने जैसा मॉडल नहीं है ऑप्शन ट्रेडिंग का एक अलग प्रकार का मॉडल है ये थोड़ा टेक्निकल मॉडल है सबकुछ समज लेने के बाद आप इसमें ट्रेडिंग करना शुरू कर सकते है।

ऑप्शन क्या है- ऑप्शन का मतलब है आपके पास चयन करने का विकल्प है आप किसी भी किसी भी चीज़ का चयन कर सकते है आप इसमें पैसा लगा सकते है या तो तेजी में या मंदी में ऑप्शन ट्रेडिंग में आप मार्किट में आप गिरते हुए भाव पर भी पैसा लगा सकते है।

ऑप्शन ट्रेडिंग को अगर आसान तरीके से समजे तो इसका मतलब है की आपके पास चयन करने का विकल्प है जैसे अगर किसी शेयर का भाव 100 रुपए चल रहा है और ऑप्शन ट्रेडिंग में आपके पास ऑप्शन है की आप इसके बढ़ते भाव पर पैसा लगाएंगे या गिरते भाव पर पैसा लगाएंगे।

ऑप्शन की अवधारणा को इस उदाहरण से समझा जा सकता है. उदाहरण के लिए, जब आप कुछ संपत्ति खरीदने की योजना बनाते हैं, तो आपने अन्य ऑप्शन का मूल्यांकन करने के दौरान उसे कुछ समय के लिए होल्ड करने के लिए नॉन-रिफंडेबल डिपॉज़िट रखा हो सकता है. यह ऑप्शन के प्रकार का उदाहरण है.

उसी प्रकार, शायद आपने सुना हो कि बॉलीवुड किसी उपन्यास पर कोई ऑप्शन खरीद रहा है. किसी उपन्यास को ऑप्शन करने में निर्देशक निर्दिष्ट दिनांक से पहले उपन्यास पर फिल्म बनाने के अधिकार खरीदता है. मकान और स्क्रिप्ट वाले दोनों मामलों में, किसी ने निश्चित दिनांक से पहले निश्चित मूल्य पर कोई उत्पाद खरीदने के अधिकार के लिए कुछ पैसा रखा है.

ऑप्शन ट्रेडिंग एक शक्तिशाली हैं क्योंकि वे किसी व्यक्ति के पोर्टफोलियो को बढ़ा सकते हैं। वे इसे अतिरिक्त आय, सुरक्षा और यहां तक ​​कि उत्तोलन के माध्यम से करते हैं। स्थिति के आधार पर, आमतौर पर एक निवेशक के लक्ष्य के लिए उपयुक्त विकल्प परिदृश्य होता है।

Call & Put ऑप्शन क्या होते है?

Option Trading In Hindi- ऑप्शन ट्रेडिंग में भी दो विकल्प call and put options trading in hindi होते है एक कॉल ऑप्शन और एक पुट ऑप्शन:-

call and put options trading in hindi- कॉल का मतलब होता है मार्किट में तेजी और पुट का मतलब मार्किट में मंदी अगर आप कॉल ऑप्शन में ट्रेडिंग करते है तो आप तेजी में ट्रेडिंग कर रहे है अगर आप पुट में ट्रेडिंग करते है तो आप मंदी में ट्रेडिंग कर रहे है कॉल खरीदते है तो हम ऊपर की और पैसा लगा रहे है पुट खरीदते है तो हम मंदी की और पैसा लगा रहे है।

What is call option in share market hindi- कॉल ट्रेडिंग में अगर आप खरीदते है तो तेजी हो जाती है और कॉल के अंदर अगर आप बेचते है तो मंदी हो जाती है।

What is Put option in share market hindi – पुट में अगर खरीदते है तो मंदी हो जाती है और अगर आप खरीदते है तो तेजी हो जाती है।

Option Trading In Hindi- आप जिस प्राइस के ऊपर Call खरीदा उसके ऊपर का प्राइस जाने के बाद ही आपको फ़ायदा होगा। ठीक उसी तरह Put खरीदा तो जिस प्राइस के ऊपर खरीदा उसके नीचे गया तो ही आपको फ़ायदा होगा।

ऑप्शन ट्रेडिंग में कितने तरीके से पैसे कमा सकते है?

ऑप्शन ट्रेडिंग में हम चार प्रकार से पैसे कमा सकते है जैसे:-

  • Call Option Buy
  • Put Option Buy
  • Call Option Sell
  • Put Option Sell

ऑप्शन ट्रेडिंग Option Trading In Hindi में लोग इन्ही खरीद विकल्प पुट चार तरीको से पैसे कमाते है

Option Trading कैसे करे

how to start option trading hindi -ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए आप एक कंपनी का 1 शेयर नहीं खरीद सकते आपको LOT में खरीदना पड़ेगा. Nifty50 का एक Lot 75 का होता है how खरीद विकल्प पुट to start option trading hindi लेकिन शेयर में ज्यादा होता हैं। किसी भी शेयर और Nifty50, Bank NIfty का Option खरीदने के लिए आपको जाना होगा आपके Demat Account में। उसके बाद जो भी खरीदना है उसमे आपको देखने को मिलेगा Option Chain आप उस पर से आपको Call या Put जो भी खरीदना है खरीद सकते हैं।

ऑप्शन ट्रेडिंग में बहुत ज्यादा रिस्क होता है Option Trading In Hindi इसलिए इसको पूरी जानकारी के साथ शुरू कीजिये इसमें पैसे भी बनाये जा सकते है इसलिए इसके बारे में ज्यादा से जायदा जानकारी जानने के बाद ही ऑप्शन ट्रेडिंग में ट्रेडिंग करे।

कॉल और पुट क्या होता है?

इसे सुनेंरोकेंकॉल के खरीदार को एक तय तरीख और निश्चित मूल्य पर अंडरलाइंग स्टॉक खरीदने का अधिकार मिलता है. पुट में खरीद विकल्प पुट खरीदार को शेयरों को बेचने का अधिकार मिलता है. कॉल बेचने वाले विक्रेता को खरीदार से प्रीमियम मिलता है. ऑप्शन, कॉल और पुट भी ऐसे शब्दों में शामिल हैं.

इसे सुनेंरोकेंकॉल के खरीदार को एक तय तरीख और निश्चित मूल्य पर अंडरलाइंग स्टॉक खरीदने का अधिकार मिलता है. पुट में खरीदार को शेयरों को बेचने का अधिकार मिलता है. कॉल बेचने वाले विक्रेता को खरीदार से प्रीमियम मिलता है.

Option Chain क्या है?

इसे सुनेंरोकेंA) ऑप्शन चैन क्या होती है? What is Option chain? ऑप्शन चैन चार्ट एक ऐसी लिस्टिंग है जहा पे उपलब्ध कॉल (Call) और पुट (Put) विकल्पों की एक सूची होती है। लिस्टिंग में अलग-अलग स्ट्राइक प्राइस के लिए प्रीमियम, वॉल्यूम, ओपन इंटरेस्ट आदि की जानकारी शामिल होती है।

ऑप्शन सेलिंग कैसे करें?

इसे सुनेंरोकेंआप कॉल ऑप्शन तभी बेचते हैं जब आप मंदी में होते हैं यानी आपका नजरिया बेयरिश होता है। कॉल ऑप्शन बेचने वाले और को खरीदने वाले का P&L एक दूसरे के एकदम विपरीत होता है। जब आप कॉल ऑप्शन बेचते हैं तो आपको एक प्रीमियम मिलता है। कॉल ऑप्शन बेचने वाले को एक्सचेंज में एक मार्जिन जमा करना होता है।

शेयर मार्केट में कॉल ऑप्शन क्या होता है?

इसे सुनेंरोकेंएक call options एक ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट होता है जिसमें खरीदार के पास एक मुख्य स्टॉक की एक विशेष मात्रा को बिना किसी बाध्यता के पूर्व निर्धारित मूल्य पर खरीदने का अधिकार है। जब ट्रेडर्स को यह उम्मीद होती है कि प्राइस ऊपर बढ़ सकती है तो वे call option में एक लॉन्ग पोजीशन ले सकते हैं।

ऑप्शन का मतलब क्या है?

इसे सुनेंरोकेंअर्थ और पर्यायवाची विकल्प: विकल्प संस्कृत [विशेषण] 1. वह अवस्था जिसमें कई विषयों या बातों में से कोई एक विषय या बात चुनने का अधिकार हो 2. अनिश्चित विचार ; ‘संकल्प’ का विलोम 3.

F&O ट्रेडिंग क्या है?

इसे सुनेंरोकेंफ्यूचर्स ट्रेडिंग भविष्य में बिक्री या खरीद करने का एक अनुबंध है। एक वायदा अनुबंध में एक खरीदार और एक विक्रेता होता है, जो दोनों सहमत होते हैं कि किसी संपत्ति को एक विशिष्ट दिन पर एक विशिष्ट मूल्य के लिए खरीदा या बेचा खरीद विकल्प पुट जाएगा। संपत्ति डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल इंडेक्स की तरह एक कमोडिटी, एक मुद्रा या एक इंडेक्स भी हो सकती है।

इसे सुनेंरोकेंकॉल के खरीदार को एक तय तरीख और निश्चित मूल्य पर अंडरलाइंग स्टॉक खरीदने का अधिकार मिलता है. पुट में खरीदार को शेयरों खरीद विकल्प पुट को बेचने का अधिकार मिलता है. कॉल बेचने वाले विक्रेता को खरीदार से प्रीमियम मिलता है. इक्‍विटी डेरिवेटिव ट्रेडिंग से जुड़े कई शब्द आसानी से समझ में नहीं आते हैं.

ज़ेरोधा में विकल्प प्रीमियम क्या है?

इसे सुनेंरोकेंआप किसी भी कीमत पर ऑप्शन एग्रीमेंट कर सकते हैं, बस आपको उससे जुड़ा प्रीमियम देना होगा। उदाहरण के तौर पर आप 340 के कॉल ऑप्शन को 4 रूपये 75 पैसे का प्रीमियम देकर ले सकते हैं। इसे ऊपर लाल रंग से दिखाया गया है। ये खरीदार को एक्सपायरी के अंत तक ITC का शेयर 340 रूपये पर खरीदने का विकल्प देगा।

ज़ेरोधा में ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करें?

जेरोधा काइट में ट्रेड कैसे करें?

  1. Zerodha Kite वेबसाइट या मोबाइल ऐप पर लॉग इन करें
  2. अपने Zerodha अकाउंट में फंड जोड़ें
  3. अपनी मार्केट वॉच में अपनी इच्छा के अनुसार ऑप्शन जोड़ें
  4. ऑप्शन के लिए Buy Order दें
  5. ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट को समझें
  6. ऑर्डर पूरा हो जाने के बाद वेरीफाई करें

ऑप्शन चैन क्या है?

शेयर मार्केट में ऑप्शन क्या होता है?

इसे सुनेंरोकेंआपको नाम से ही पता लग गया होगा Option का मतलब विकल्प। उदाहरण के लिए- मान लीजिये आप एक कंपनी का 1000 शेयर 5000 रुपये प्रीमियम देकर 1 महीने बाद का 100 रुपये में खरीदने का Option लेते हो। ऐसे में उस कंपनी का शेयर 1 महीने बाद 70 हो गया तब आपके पास विकल्प (Option) रहेगा उस शेयर को नुकसान में ना खरीदने का।

ऑप्शन ट्रेडिंग में कितना चार्ज लगता है?

इसे सुनेंरोकेंजेरोधा ऑप्शन कमोडिटी के समान ही करेंसी के लिए शुल्क लेता है यानी 0.03% या ₹20 / निष्पादित ऑर्डर (जो भी कम हो). उदाहरण के लिए, यदि आपने ₹50,000 में 50 लॉट खरीदा है। तो अगर आप 50 का 0.03 प्रतिशत गणना करते है तो यह 1.5 होता है।

विकल्प प्रीमियम क्या है?

इसे सुनेंरोकेंविकल्प प्रीमियम एक विकल्प के खरीदार के पास अधिकार है लेकिन खरीदने का दायित्व नहीं है (a . के साथ)बुलाना) या किसी निश्चित अवधि के लिए दिए गए स्ट्राइक मूल्य पर अंतर्निहित लिखत को (पुट के साथ) बेचें।

ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते हैं?

इसे सुनेंरोकेंमै आपको बता दू स्टॉक मार्केट में चार प्रकार की ट्रेडिंग होती है intraday trading. Swing trading. Short term trading. Long term trading.

कॉल ऑप्शन और पुट ऑप्शन क्या है?

इसे सुनेंरोकेंकॉल ऑप्शन की खरीद या पुट ऑप्शन की बिक्री तभी करें जब आपको यह उम्मीद हो कि बाजार ऊपर जाएगा। एक पुट ऑप्शन की खरीद या कॉल ऑप्शन की बिक्री तभी करें जब आपको उम्मीद हो कि बाजार नीचे जाएगा। ऑप्शन को खरीदने वाले का मुनाफा असीमित होता है जबकि उसका रिस्क सीमित होता है (उतना ही जितना उसने प्रीमियम दिया है)।

शेयर मार्केट में फ्यूचर एंड ऑप्शन क्या होता है?

इसे सुनेंरोकेंफ्यूचर तथा ऑप्शन (Futures and Options in Hindi) को समझने से पहले जिस बाज़ार में ये उत्पाद खरीदे एवं बेचे जाते हैं उसके बारे में जान लेना आवश्यक है। ये दोनों डेरिवेटिव मार्केट के उत्पाद हैं। डेरिवेटिव उत्पाद ऐसे वित्तीय उपकरण होते हैं, जिनका अपना कोई मूल्य नहीं होता बल्कि उनका मूल्य किसी अन्य वस्तु से निर्धारित होता है।

ऑप्शन में कैसे ट्रेड करें?

इसे सुनेंरोकेंकमोडिटी मार्केट में ऑप्शन ट्रेडिंग शुरू करने के लिए सबसे पहले ट्रेडिंग अकाउंट होना जरूरी है। अगर पहले से ही फ्यूचर बाजार में खाता है तो अपने ब्रोकर को ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए सहमति पत्र देना होगा। इस अकाउंट के जरिए ही निवेशक कमोडिटी एक्सचेंज में फ्यूचर या ऑप्शन में किसी सौदे की खरीद या बिक्री कर सकते हैं।

एक ऑप्शन क्या है इन हिंदी?

इसे सुनेंरोकेंपुट ऑप्शन वह है जिसमें कोई व्यक्ति बाद में होने वाली मूल्य गिरावट के लिए कोई स्टॉक सुनिश्चित कर सकता है. यदि आपके स्टॉक का मूल्य कम होता है, तो आप अपना पुट ऑप्शन लेकर इसे पूर्व में निर्धारित मूल्य स्तर पर बेच सकते हैं. यदि स्टॉक मूल्य ऊपर जाता है, तो आपको बस केवल चुकायी गई प्रीमियम राशि की हानि होती है.

ऑप्शन ट्रेडिंग में हेजिंग क्या है?

इसे सुनेंरोकेंहेजिंग का हिंदी में अर्थ है बचाव। खराब बाजार में अपनी पोजीशन को नुकसान से बचाने के लिए हेजिंग का इस्तेमाल किया जाता है। एक उदाहरण से हेजिंग को समझते हैं, मान लीजिए आप के घर के बाहर एक खाली जमीन है। इस जमीन को खाली रखने के बजाय आप इसमें बगीचा लगाने का फैसला करते हैं।

शेयर कब खरीदना चाहिए?

इसे सुनेंरोकेंशेयर कब खरीदे और बेचे, इसका जवाब सफल निवेशक वारेन बफेट बताते हैं कि आपको उस समय शेयर खरीदना चाहिए जब पूरा स्टॉक मार्केट डरा हुआ हो और उस समय शेयर बेचना चाहिए जब पूरा बाजार लालच से भरा हो। मतलब वो कहते हैं कि जब मार्केट डरा हुआ हो तो आपको लालची बन जाना चाहिए और जब मार्केट लालची हो तब आपको डर जाना चाहिए।

शेयर मार्किट में CE और PE क्या है? 5 मिनट में समझें [2022] | What is CE & PE Stock Market Example in Hindi?

जो लोग वित्तीय पृष्ठभूमि से नहीं हैं, उनके लिए ऑप्शन ट्रेडिंग भ्रम से भरी है। बहुत सारे शब्द हैं जिन्हें समझना मुश्किल है। अगर आप शेयर मार्किट में CE और PE को अच्छे से समझना चाहते हो तो यह ब्लॉग पोस्ट सिर्फ आपके लिए है। पहली बार जब कोई ऑप्शन ट्रेडिंग सीखना शुरू करते हैं हर किसी के मन में यह सवाल आता है कि Stock Market में CE और PE क्या है?

तो लेख में हम इन शर्तों के बारे में आपके भ्रम को दूर करने के लिए उदाहरण के साथ सीई और पीई पर विवरण में चर्चा करेंगे। तो चलिए चर्चा करना शुरू करते हैं कि CE और PE क्या है?

Table of Contents

CE और PE क्या है? – What is CE & PE Share Market Example in Hindi?

CE क्या है?

CE कॉल ऑप्शन (Call Option) का शॉर्ट फॉर्म है, हालांकि वास्तव में इसका पूरा नाम कॉल यूरोपियन (Call European) है। CE निवेश अनुबंध (Contracts) हैं जो निवेशक को एक निश्चित समय सीमा के भीतर एक निश्चित लागत पर स्टॉक, बॉन्ड, उत्पाद, या अन्य संपत्ति या साधन खरीदने का अधिकार प्रदान करते हैं, वो भी बिना प्रतिबद्धता के।

मूल संपत्ति एक शेयर, बांड या कमोडिटी है। जब मूल संपत्ति का मूल्य बढ़ता है, तो कॉल खरीदार को लाभ होता है।

प्रतिभूतियों पर कॉल विकल्प (Call Option) निवेशक को एक निश्चित तिथि (समाप्ति तिथि) से पहले एक निश्चित कीमत (स्ट्राइक प्राइस) पर फर्म के शेयरों की निश्चित संख्या हासिल करने का विकल्प प्रदान करते हैं।

कॉल ऑप्शन (CE) कब खरीदें? – When to Buy Call Option in Hindi?

मान लें कि रिलायंस की वार्षिक आम बैठक (AGM) आ रही है, और आप उम्मीद करते हैं कि बैठक में एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया जाएगा। हालाँकि स्टॉक वर्तमान में INR 1950 पर कारोबार कर रहा है, आप मानते हैं कि यह समाचार कीमत को अधिक बढ़ा देगा, संभवतः INR 1950 से ऊपर।

हालांकि, आप कैश सेगमेंट में रिलायंस को खरीदने से सावधान हैं क्योंकि यह बहुत जोखिम भरा है, और आप इसे फ्यूचर्स मार्केट में नहीं खरीदना चाहेंगे क्योंकि फ्यूचर्स आपको असीमित जोखिम के लिए उजागर करता है।

आप घोषणा के परिणामस्वरूप दर में वृद्धि से चूकना नहीं चाहते हैं, और आप अस्थिरता को खत्म करने के लिए थोड़ी सी राशि का जोखिम उठाने को तैयार हैं। आपके लिए, एक कॉल विकल्प एकदम सही है।

उदाहरण:

आप विकल्प बाजार में तरलता के आधार पर, एक ऐसे समय में जब मौजूदा कीमत INR 1950 है, एक रिलायंस कॉल ऑप्शन में INR 1970 की स्ट्राइक लागत के साथ व्यापार करने में रुचि हो सकती है।

चूंकि उस कॉल विकल्प को 10 रुपये पर उद्धृत किया गया था, आपको प्रति स्टॉक INR 10, या INR 2,500 का प्रीमियम खर्च करना होगा (रु 10 x 250 यूनिट)।

यदि रिलायंस का नकद बाजार मूल्य INR 1980 प्रति शेयर तक पहुंच जाता है (यानी, आपकी स्ट्राइक लागत रु 1970 + प्रीमियम 10 रुपये का शुल्क लिया गया) तो आपका मुनाफा शुरू हो जाता है।

PE का क्या अर्थ है? – What is PE in Stock Market in Hindi?

PE, Put Option का संक्षिप्त रूप है, हालाँकि, वास्तविक पूर्ण रूप पुट यूरोपियन है। पुट विकल्प (Put Option) एक अनुबंध है जो धारक को एक निश्चित समय अवधि के भीतर एक विशिष्ट लागत पर वास्तविक सुरक्षा के मूल्य से पहले बेचने या बेचने की प्रतिबद्धता नहीं बल्कि विशेषाधिकार देता है।

स्ट्राइक रेट वह निश्चित मूल्य है जिस पर पुट ऑप्शन का ट्रेडर बेचेगा। शेयरों, मुद्राओं, बांडों, वस्तुओं, वायदा और सूचकांकों को पुट विकल्प के लिए मूल संपत्ति के रूप में आदान-प्रदान किया जाता है।

कॉल ऑप्शन पुट ऑप्शन के बिल्कुल विपरीत है। किसी भी बाजार में विक्रेता के बिना बोली लगाने वाला कभी नहीं हो सकता। समान रूप से, आप विकल्प खंड में पुट विकल्प के बिना कॉल विकल्प प्राप्त नहीं कर सकते।

शेयर पुट ऑप्शन उसी तरह से काम करते हैं जैसे स्टॉक कॉल ऑप्शन करते हैं। इस स्थिति में, फिर भी, विकल्प निवेशक शेयर के मूल्य पर मंदी की स्थिति में है और गिरावट से लाभ की उम्मीद करता है।

पुट ऑप्शन खरीदते समय ध्यान रखने योग्य बातें?

पुट ऑप्शन शेयर उसी तरह से काम करते हैं जैसे स्टॉक कॉल ऑप्शन करते हैं। इस स्थिति में, फिर भी, विकल्प निवेशक शेयर के मूल्य पर मंदी की स्थिति में है और गिरावट से लाभ की उम्मीद करता है।

आपको स्टॉक की चाल पर कड़ी नजर रखनी चाहिए। यह संभव है कि शेयर की कीमत गिरती है, लेकिन फिर समाप्ति से ठीक पहले फिर से बढ़ जाती है। इसका मतलब यह होगा कि आप लाभ का मौका चूक गए हैं।

उदाहरण:

मान लें कि आप ABC स्टॉक के मालिक हैं और अनुमान लगाते हैं कि कंपनी का तिमाही प्रदर्शन विश्लेषकों की अपेक्षाओं से कम होगा। यह INR 1950 के मौजूदा स्टॉक मूल्य प्रति स्टॉक में गिरावट का कारण हो सकता है।

आप मूल्य में गिरावट से लाभ के लिए प्रति शेयर 10 रुपये के बाजार द्वारा निर्धारित प्रीमियम पर INR 1930 के स्ट्राइक मूल्य पर ABC पर एक पुट विकल्प (Put Option) खरीद सकते हैं। मान लें कि अनुबंध लॉट में 250 शेयर हैं। एबीसी पर एक पुट ऑप्शन खरीदने के लिए, आपको 2,500 रुपये (250 स्टॉक x 10 रुपये प्रति इक्विटी) का प्रीमियम देना होगा।

फायदा क्या होगा?

यदि शेयर की खरीद विकल्प पुट कीमत 1930 रुपये तक गिरती है, तो आप अपने पुट विकल्प का उपयोग करने पर विचार कर सकते हैं। फिर भी, यह आपके 10 रुपये/स्टॉक प्रीमियम को कवर नहीं करता है। नतीजतन, आप स्टॉक की कीमत कम से कम 1920 रुपये तक गिरने तक इंतजार करना चाह सकते हैं।

तब तक देखें जब तक कि स्टॉक 1910 रुपये या 1900 के स्तर तक न गिर जाए, अगर कोई संकेत है कि यह होगा। यदि नहीं, तो अवसर का लाभ उठाएं और जितनी जल्दी हो सके विकल्प का उपयोग करें। प्रीमियम लागत घटाने के बाद, आप प्रति शेयर 10 रुपये का लाभ अर्जित करेंगे।

नुकसान क्या हो सकता है?

हालाँकि, आप विकल्प की अवहेलना कर सकते हैं यदि शेयर की लागत पूर्वानुमान के अनुसार गिरने के बजाय बढ़ती है। आपका नुकसान 2,500 रुपये या 10 रुपये प्रति शेयर तक सीमित रहेगा।

ऑप्शंस एंड पुट को भारतीय बाजार में किसी भी सिक्योरिटीज पर बेचा या खरीदा नहीं जा सकता है। सेबी के सख्त विनिर्देशों को पूरा करने वाले केवल उन शेयरों को विकल्प व्यापार करने की अनुमति है। इन शेयरों को शीर्ष 500 शेयरों में से चुना गया था, जिसमें पिछले 6 महीनों में औसत दैनिक बाजार मूल्यांकन और औसत नियमित कारोबार की मात्रा जैसे मापदंडों को ध्यान में रखा गया था।

हमें आशा है खरीद विकल्प पुट की यह ब्लॉग पोस्ट को पढ़ने के बाद आपके सवाल Stock Market में CE और PE क्या है? (What is CE & PE Share Market Example in Hindi इसका जवाब आपको आसानी से मिल गया होगा। हालांकि, हम अनुशंसा करते हैं खरीद विकल्प पुट कि आप F&O सेगमेंट में प्रवेश करने से पहले एक संरक्षक से भविष्य और विकल्पों को ठीक से सीख लें।

विकास तिवारी इस ब्लॉग के मुख्य लेखक हैं. इन्होनें कम्प्यूटर साइंस से Engineering किया है और इन्हें Technology, Computer और Mobile के बारे में Knowledge शेयर करना काफी अच्छा लगता है.

फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है | Basics of Future and Option trading for Beginners in Hindi

शेयर मार्केट में आप अलग अलग प्रकार से शेयर खरीद और बेच सकते है जैसे इंट्राडे (Intraday ), डिलीवरी (Delivery) अदि। इसी प्रकार से शेयर मार्केट में हम इसमें फ्यूचर एंड ऑप्शन (Future And Option Trading) ट्रेडिंग भी कर सकते है। फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है

अगर आप फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग करना चाहते है और इसके बारे में सभी प्रकार की जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो इस लेख को अंतिम तक जरूर पढ़े क्योकि इसमें आपको शेयर मार्केट के बारे में और फ्यूचर एंड ऑप्शन (Future and Option) के बारे में सभी प्रकार की जानकारी उपलब्ध कराई है।

Future and Option Trading

फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग क्या खरीद विकल्प पुट है Basics of Future and Option trading for Beginners in Hindi

Derivative Market क्या है ? (What is Derivative Market?)

सिम्पल शब्दो में बोले तो, डेरीवेटिव मार्केट (Derivative Market) एक प्रकार का कांटेक्ट (Contract) होता है जिसका वैल्यू कोई भी एक तारीख तक सिमित होता है उसके बाद कॉन्ट्रैक्ट (contact) का वैल्यू जीरो हो जाता है जिसे हम डेरीवेटिव मार्केट (Derivative Market) कहते है।

डेरीवेटिव मार्केट, दो संस्थाओ के बिच एक कॉन्ट्रैक्ट को दर्शाता है इसमें दरअसल शेयरों का आदान प्रदान करके पैसा कमाया जाता है। what are Future and Option

Derivative Market के प्रकार (Types of Derivative Markets)

  1. Forward
  2. Future
  3. Option
  4. Swap

फ्यूचर्स ट्रेडिंग क्या है ? (What is Futures Trading?)

स्टॉक मार्केट (Stock Market) में फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Futures Trading) का अहम रोल होता है फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Future trading) डेरीवेटिव मार्केट (Derivative Market) का एक अहम हिस्सा है जिसका एक अपना ट्रेडिंग Base होता है इसमें लोग फ्यूचर को को आधार मानकर ट्रेडिंग करते है। इसे हम उदाहरण से समझते है –

माना एक लड़का है जिसे फ्यूचर में आईपीएल के एक मैच का टिकट खरीदना है लेकिन मैच के दिनांक के समय उस टिकट का प्राइस बढ़ने वाला है तो वह लड़का अभी के प्राइस में उस टिकट को न खरीद कर उसके बदले एक डील या कॉन्ट्रैक्ट करता है कि आने वाले समय में उस टिकट का भाव बढ़े या घटे उसे अभी के प्राइस पर वह टिकट मिल जायगा लेकिन उस टिकट की समय अवधि उस मैच के दिनांक पर निर्धारित करेगा।

इस लेख में हम फ्यूचर्स ट्रेडिंग की सारी जानकारी आपको देंगे कि फ्यूचर्स ट्रेडिंग कैसे किया जाता है ?, इसमें कितना प्रॉफिट और लॉस हो सकता है ?

फ्यूचर्स ट्रेडिंग कैसे किया जाता है ? (How is future trading done?)

फ्यूचर ट्रेडिंग में हमे फ्यूचर के हिसाब से शेयर खरीदना और फिर बेचना होता है इसमें समय सिमा निर्धारित होता है जिसमे आपको अपने खरीदे गए शेयर को समय से पहले बेचना होता है इसका समय निर्धारित महीने के अंतिम सप्ताह में होता है। फ्यूचर एंड ऑप्शन के बारे में जाने।

ऑप्शंस ट्रेडिंग क्या है ? (What is Options Trading?)

जिस प्रकार खरीद विकल्प पुट खरीद विकल्प पुट स्टॉक मार्केट (Stock Market) में फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Futures Trading) का अहम रोल है उसी प्रकार ऑप्शंस ट्रेडिंग (Options Trading) का भी महत्व पूर्ण भूमिका होता है ऑप्शंस ट्रेडिंग का अर्थ विकल्प होता है जो अपने अर्थ के अनुसार ही स्टॉक मार्केट में कार्य करता है।

ऑप्शंस ट्रेडिंग में आपको शेयर खरीदने के लिए बहोत सारे विकल्प मिल जायेंगे जिसमे आप अपने बजट के अनुसार शेयर को खरीद और बेच सकते है। इसमें कम लागत में अधिक लाभ कमा सकते है वो भी कम जोखिम में।

कॉल ऑप्शन क्या है ? (What is Call Option?)

कॉल ऑप्शन, ऑप्शंस ट्रेडिंग का ही एक हिस्सा होता है जिसमे मार्केट के इंडेक्स के माध्यम से देख कर सावधानी पूर्वक शेयर या लोट को उसके प्रीमियम के कीमत के आधार पर खरीदना होता है।

इसमें एक समय सिमा निर्धारित होती है जिसके अनुसार मार्केट में उतार चढ़ाओ बना रहता है और इसमें आप अपने अनुसार समय सिमा चुन सकते है।

कॉल ऑप्शन में स्ट्राइक प्राइस के ऊपर के खरीद को कॉल ऑप्शन कहते है इसका सही मतलब मार्केट के वृद्धि से होता है अगर मार्केट स्ट्राइक प्राइस से ऊपर चली जाती है जो मार्केट की तेजी को दर्शाता है उस समय हमे कॉल ऑप्शन को खरीदना होता है।

पुट ऑप्शंस क्या है ? (What are put options?)

पुट ऑप्शन में स्ट्राइक प्राइस के नीचे के खरीद को पुट ऑप्शन कहते है पुट ऑप्शन कॉल ऑप्शन की तरह ही काम करता है इसमें भी सारे कॉल ऑप्शन के तरह ही शेयर को खरीदा और बेचा जाता है बस फर्क इतना है कि इसमें स्ट्राइक प्राइस के नीचे या कॉल ऑप्शन के विपरीत शेयर खरीदा जाता है जिसका मतलब मार्केट में मंदी से है अगर मार्केट में गिरावट हो तब हमे पुट ऑप्शन को खरीदना चाहिए।

इसे भी पढ़े ..

फ्यूचर्स ट्रेडिंग क्या है ?

स्टॉक मार्केट (Stock Market) में फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Futures Trading) का अहम रोल होता है फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Future trading) डेरीवेटिव मार्केट (Derivative Market) का एक अहम हिस्सा है जिसका एक अपना ट्रेडिंग Base होता है इसमें लोग फ्यूचर को को आधार मानकर ट्रेडिंग करते है। इसे हम उदाहरण से समझते है –

ऑप्शंस ट्रेडिंग क्या है ?

जिस प्रकार स्टॉक मार्केट (Stock Market) में फ्यूचर्स ट्रेडिंग (Futures Trading) का अहम रोल है उसी प्रकार ऑप्शंस ट्रेडिंग (Options Trading) का भी महत्व पूर्ण भूमिका होता है ऑप्शंस ट्रेडिंग का अर्थ विकल्प होता है जो अपने अर्थ के अनुसार ही स्टॉक मार्केट में कार्य करता है।

कॉल ऑप्शन क्या है ?

कॉल ऑप्शन, ऑप्शंस ट्रेडिंग का ही एक हिस्सा होता है जिसमे मार्केट के इंडेक्स के माध्यम से देख कर सावधानी पूर्वक शेयर या लोट को उसके प्रीमियम के कीमत के आधार पर खरीदना होता है।

पुट ऑप्शंस क्या है ?

पुट ऑप्शन में स्ट्राइक प्राइस के नीचे के खरीद को पुट ऑप्शन कहते है पुट ऑप्शन कॉल ऑप्शन की तरह ही काम करता है इसमें भी सारे कॉल ऑप्शन के तरह ही शेयर को खरीदा और बेचा जाता है बस फर्क इतना है कि इसमें स्ट्राइक प्राइस के नीचे या कॉल ऑप्शन के विपरीत शेयर खरीदा जाता है जिसका मतलब मार्केट में मंदी से है अगर मार्केट में गिरावट हो तब हमे पुट ऑप्शन को खरीदना चाहिए।

रेटिंग: 4.56
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 846
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *