ट्रेड फोरेक्स

मुद्रा टेबल

मुद्रा टेबल

RBI: विदेशी निवेशकों ने की बड़ी बिकवाली, आई 91 लाख डॉलर की गिरावट, निवेशकों को हुआ करोड़ों का नुकसान

Foreign Exchange Reserves: देश का विदेशी मुद्रा भंडार 22 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में 90.8 लाख डॉलर घटकर 640.1 अरब डॉलर रह गया.

By: abp news | Updated at : 30 Oct 2021 05:38 PM (IST)

विदेशी निवेशक (फाइल फोटो)

Foreign Exchange Reserves: देश का विदेशी मुद्रा भंडार 22 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में 90.8 लाख डॉलर घटकर 640.1 अरब डॉलर रह गया. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने शुक्रवार को अपने ताजा आंकड़ों में यह जानकारी दी है. इससे पिछले 15 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में विदेशीमुद्रा भंडार (Forex reserves) 1.492 अरब डॉलर बढ़कर 641.008 अरब डॉलर हो गया था. वहीं, इससे पहले तीन सितंबर 2021 को समाप्त सप्ताह में विदेशीमुद्रा भंडार 642.453 अरब डॉलर के सर्वकालिक मुद्रा टेबल उच्च स्तर पर पहुंच गया था.

RBI ने जारी किया आंकड़ा
आरबीआई के शुक्रवार को जारी साप्ताहिक आंकड़ों के मुताबिक, 22 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार में यह गिरावट मुख्य रूप से विदेशीमुद्रा आस्तियों (FCA) और स्वर्ण भंडार के घटने की मुद्रा टेबल वजह से आई है, जोकि कुल मुद्राभंडार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है.

FCA में आई गिरावट
रिजर्व बैंक ने कहा कि आलोच्य सप्ताह में भारत की विदेशीमुद्रा आस्तियां (FCA) 85.3 करोड़ डॉलर घटकर 577.098 अरब डॉलर रह गई. डॉलर में बताई जाने वाली विदेशी मुद्रा संपत्ति में विदेशी मुद्रा भंडार में रखी यूरो, पाउंड और येन जैसी दूसरी विदेशी मुद्राओं के मूल्य में वृद्धि या कमी का प्रभाव भी शामिल है. समीक्षाधीन सप्ताह में स्वर्ण आरक्षित भंडार 13.8 करोड़ डॉलर घटकर 38.441 अरब डॉलर रह गया.

SDR में हुआ इजाफा
रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष में देश का विशेष आहरण अधिकार (SDR) 7.4 करोड़ डॉलर बढ़कर 19.321 अरब डॉलर हो गया. आईएमएफ में देश का आरक्षित विदेशीमुद्रा भंडार एक करोड़ डॉलर बढ़कर 5.240 अरब डॉलर हो गया.

News Reels

शेयर बाजार में रही बड़ी गिरावट
विदेशी संस्थागत निवेशकों (FPI) की वजह से बाजार में बड़ी बिकवाली देखने को मिली है, जिसकी वजह से निवेशकों को करीब 6.15 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हो गया है. बता दें सिर्फ 3 दिन की गिरावट की वजह से निवेशकों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है.

Published at : 30 Oct 2021 05:38 PM (IST) Tags: RBI forex foreign exchange reserves FCA Forex reserves business news in hindi government finances trade finance banking finance foreign currency assets foreign reserves RBI foreign reserves RBI forex reserves हिंदी समाचार, ब्रेकिंग मुद्रा टेबल मुद्रा टेबल न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: Business News in Hindi

इन 5 योगासनों की मदद से अपने हार्ट और ब्रेन को आप भी रख सकती हैं स्वस्थ

योग लचीलेपन और संतुलन को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। मगर, आप हृदय और मस्तिष्क को स्वस्थ बनाए रखने के लिए भी आप योग के इन आसनों पर भरोसा कर सकती हैं।

yoga karne ke kai fyade hain

प्राणायाम से आप अपने पैनिक अटैक पर काबू रख सकती हैं। चित्र: शटरस्टॉक

अपने दिल और दिमाग के लिए आप जो सबसे अच्छी चीजें कर सकती हैं, उनमें से एक है योग करना। योग का नियमित अभ्यास आपको अपने तनाव को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। यह आपके हृदय रोग के जोखिम को कम कर सकता है और आपके शरीर को अपनी पूरी क्षमता से काम करने में मदद करता है। हृदय और मस्तिष्क के लिए योग आपके शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य को बढ़ाने में भी आपकी मदद कर सकता है। ये सभी एक स्वस्थ हृदय में योगदान करते हैं।

योग आपकी मांसपेशियों को मजबूत करने में भी मदद कर सकता है। हेल्थ शॉट्स ने योग प्रशिक्षक, लाइफस्टाइल कोच और रूटीन योग के संस्थापक अखिल गौर से बात की, जिन्होंने हृदय और मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए कुछ बेहतरीन योग आसन हमारे साथ साझा किए हैं।

दिल और दिमाग के लिए योग

गौर कहते हैं – “योग आपकी जीवनशैली को बेहतर तरीके से विनियमित करने के लिए एक समग्र दृष्टिकोण प्रदान करता है। आसन और प्राणायाम करते समय आप अपने मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को नियंत्रण में रख सकती हैं।”

यहां हैं दिल और दिमाग को मजबूत रखने के लिए 5 आसन:

1. बिटिलासन (Cow pose)

इसे करने का तरीका यहां बताया गया है:

अपनी हथेलियों और घुटनों को चटाई पर रखकर टेबल-टॉप मुद्रा में आते हुए शुरुआत करें। अपनी हथेली और कंधे को एक सीधी रेखा में रखें।
उंगलियों को अलग-अलग फैलाते हुए हथेली को चटाई पर मजबूती से दबाएं।
फिर ठुड्डी को ऊपर उठाते हुए और अपने कंधों को चौड़ा करते हुए श्वास लें और अपनी पीठ को मोड़ें।
अब अपनी पीठ पर एक कूबड़ बनाएं। अब फिर से सीधी हो जाएं।

 cow pose

2. भुजंगासन (Cobra pose)

इसे करने का तरीका यहां बताया गया है:

अपने पेट के बल फर्श पर लेट जाएं।
अब पैर की उंगलियों को एक साथ पास रखें और अपने पैर की उंगलियों को पीछे की ओर फैलाएं।
दोनों हाथों को इस तरह रखें कि हथेलियां आपके कंधों के नीचे जमीन को छू मुद्रा टेबल रही हों।
गहरी सांस अंदर लेते हुए धीरे-धीरे अपने सिर, छाती और पेट को ऊपर उठाएं और नाभि को फर्श पर रखें।
अपने हाथों के समर्थन का उपयोग करते हुए अपने धड़ को पीछे खींचें। सुनिश्चित करें कि आप दोनों हथेलियों पर समान मात्रा में दबाव डाल रही हैं।
सांस लेते रहें। यदि संभव हो तो, अपनी पीठ को जितना संभव हो सके झुकाकर अपनी बाहों को सीधा करें; अपने सिर को पीछे झुकाएं और ऊपर देखें।

3. सेतु बंध आसन (Bridge pose)

इसे करने का तरीका यहां बताया गया है:

पीठ के बल लेटकर शुरुआत करें। अपने घुटनों को मोड़ें और अपने पैरों को चटाई पर रखें।
जैसे ही आप सांस लेते हैं, अपने टखनों को पकड़ने की कोशिश करें।
अब अपनी छाती को ऊपर उठाएं और अपनी छाती को अपनी ठुड्डी तक खींचे।
अपने नितंबों को सिकोड़ें और अपने पैरों को समानांतर स्थिति में रखें।
जैसे ही आप इस मुद्रा में आएं, धीमी, गहरी सांसें लें। अपने पैर की उंगलियों को अपने घुटनों से दूर न करें।
1-2 मिनट के लिए इस स्थिति में रहें और फिर सांस छोड़ें।

bridge pose ke fayde

4. उष्ट्रासन (Camel pose)

इसे करने का तरीका यहां बताया गया है:

अपनी पीठ के बल लेटकर शुरुआत करें। अपनी हथेलियों को नीचे की ओर रखते हुए अपनी भुजाओं के पास रखें।
जैसे ही आप सांस लेते हैं, अपनी हथेलियों को अपने नितंबों पर रखें और अपनी पीठ में एक आर्च बनाते हुए अपने नितंबों को आगे की ओर धकेलते रहें।
अपने कोर में जुड़ाव महसूस करने के लिए अपने नितंबों को सिकोड़ें। दोनों हथेलियों को धीरे-धीरे अपनी एड़ियों पर रखें।
इस मुद्रा में अपने शरीर को मजबूत रखते सांस लेते रहें।
1-2 मिनट के लिए इस स्थिति में रहें और फिर सांस छोड़ें।

5. अधोमुख श्वानासन (Downward-facing pose)

इसे करने मुद्रा टेबल मुद्रा टेबल मुद्रा टेबल का तरीका यहां बताया गया है:

टेबल-टॉप पोस्चर से शुरुआत करें। अपनी उंगलियों को अलग-अलग फैलाते हुए अपनी हथेली को चटाई पर रखें। आपकी हथेली और कंधा आपके घुटने और कूल्हे के जोड़ के साथ एक सीधी रेखा में होना चाहिए।
अपनी हथेली को चटाई पर मजबूती से रखें और अपने पैर की उंगलियों को अंदर करें। अपनी हथेली पर वजन बदलते समय, अपने कूल्हे को ऊपर उठाने के लिए हथेली को चटाई पर दबाते रहें।
अपनी कोहनी और कंधों को सीधा करें और अपनी नाभि को देखने के लिए अपने सिर को थोड़ा झुकाएं।
आपकी दोनों भुजाएं आपके कंधों के समानांतर होनी चाहिए और आपकी एड़ी चटाई को छू रही हो।
कुछ देर के लिए इसी मुद्रा में रहें और फिर सांस छोड़ दें।

किस मुद्रा में पढ़ना हानिकारक है लेट के जादू को कस्टडी टेबल पर बैठकर सीधी पीठ के साथ इनमें से कोई भी नहीं​

bhatiamona

लेट कर पढ़ने की मुद्रा हानिकारक होती है, इससे ना केवल आँखों पर दबाव पड़ता है और जोर पड़ता है बल्कि पीठ पर भी जोर पड़ता है। इसलिए लेट कर नहीं पढ़ना चाहिए। लेट कर पढ़ने से आँखों को नुकसान पहुँचने की संभावना होती है, और लेटकर पढ़ने से शरीर का पाश्चर भी सही नही होता जो मुद्रा टेबल बाद अनेक समस्याओं को जन्म दे सकता है, इसलिये लेटकर नहीं पढ़ना चाहिये।

प्रधानमंत्री मुद्रा मुद्रा टेबल योजना की 7वीं वर्षगांठ: 8 अप्रैल 2022

8 अप्रैल 2022 को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की 7वीं वर्षगांठ। यह योजना 8 अप्रैल 2015 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गैर-कॉर्पोरेट, गैर-कृषि छोटे, या सूक्ष्म उद्यमों को 10 लाख रुपये तक के ऋण प्रदान करने के लिए शुरू की गई थी।

This image has an empty alt attribute; its file name is NPIC-20224891050.jpg

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के शुभारंभ के बाद से अब तक 18.60 लाख करोड़ रुपये की राशि के लिए 34 करोड़ 42 लाख से अधिक ऋण स्वीकृत किए जा चुके हैं। महिला उद्यमियों को कुल ऋण का लगभग 68 प्रतिशत ऋण स्वीकृत किया गया है। लगभग 22 प्रतिशत ऋण नए उद्यमियों को दिया गया है

रेटिंग: 4.27
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 100
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *