ट्रेड फोरेक्स

ट्रेंड रिवर्सल

ट्रेंड रिवर्सल
गौतम अडानी ही नहीं उनकी कंपनियों में पैसे लगाने वाले लोग भी बने अमीर, इस साल छप्परफाड़ हुई कमाई

RSI Indicator In Hindi आर.एस.आय का ट्रेडिंग में उपयोग कैसे करे

RSI को Relative Strength Index के नाम से जाना जाता है. RSI Indicator in hindi आर्टिकल में हम RSI Indicator के बारे में विस्तार से जानेंगे. टेक्नीकल एनालिसिस में RSI Indicator सबसे ज्यादा उपयोग में लिए जाने वाला इंडिकेटर है. RSI Indicator एक लीडिंग इंडिकेटर है जो टेक्नीकल एनालिसिस में ट्रेंड रिवेर्सल को पहचानने के लिए उपयोग में लिया जाता है. शेयर मार्किट में ट्रेडिंग करने वाले ज्यादातर ट्रेडर RSI Indicator का उपयोग करते है.

अगर आप जानना चाहते है की RSI क्या है? कैसे काम करता है और RSI Indicator कैसे हमें शेयर खरीदने या बेचने के लिए उपयोगी है तो आपको पूरी जानकारी इस आर्टिकल RSI Indicator in hindi pdf आर्टिकल में मिल जायेगी.

RSI Indicator divergence भी बनाता है जो ट्रेंड के रिवर्सल का संकेत देते है. RSI Indicator शेयर की इंटरनल पावर याने की आतंरिक क्षमता को दर्शाता है.

RSI Indicator in hindi आर्टिकल में हम जानेंगे की कैसे RSI Indicator Sideway marke t , किसी अनिश्चित ट्रेंड वाले बाजार में हमें ट्रेडिंग करने के लिए उपयोगी है.

RSI –Relative strength index –रिलेटिव ट्रेंड रिवर्सल स्ट्रेंथ इंडेक्स

Table of Contents

RSI –Relative strength index एक लीडिंग इंडिकेटर है. RSI ट्रेंड रिवर्सल और शेयर की आतंरिक ताकत को दर्शाता है. टेक्नीकल एनालिसिस में RSI के पॉजिटिव और नेगेटिव Divergence का उपयोग शेयर में खरीदी और बिकवाली के लिए उपयोग में लिए जाते है.

RSI –Relative strength index शेयर्स में Oversold और ओवर Bought पोजीशन को भी दर्शाता है. ओवेर्सोल्ड का मतलब होता है जिस शेयर्स में अधिक सेल्लिंग मोमेंटम होता है और ओवरबाउट का मतलब होता है की उस शेयर्स में इतनी ज्यादा बाइंग मोमेंटम है की वंहा से शेयर्स में करेक्शन आ सकता है.

RSI –Relative strength index एक स्वतन्त्र ट्रेडिंग सिस्टम है. RSI –Relative strength index को दुसरे एनालिसिस इंडिकेटर या मूविंग एवरेज के के साथ जोड़कर भी अच्छा रिसल्ट मिल सकता है. RSI INDICATOR दिखने में ऐसा लगता है

rsi indicator

RSI Indicator in (hindi) कैसे काम करता है?

RSI –Relative strength index शेयर्स की इंटरनल पॉवर को दर्शाता है इस स्ट्रेंथ को दर्शाने के लिए वो एक निश्चित रेंज के बिच में ओसिलेट करता रहता है याने की घूमता रहता है इसके कारन RSI –Relative strength index को एक मोमेंटम ओसिलेटर इंडिकेटर भी कहा जाता है.

RSI ० से लेकर १०० के स्तर के बिच में घूमता रहता है. RSI के मूल्य के आधार पर शेयर में खरीदी या बिकवाली के संकेत मिलते है. जैसे की अगर RSI ०-३० के बिच है तो शेयर ओवरसोल्ड हो चूका है और इसमें ट्रेंड रिवर्सल हो सकता है इसके संकेत मिलते है.

लेकिन इस बात का ख्याल रखे की अगर लम्बी समय अवधि के लिए ये ०-३० के बिच रहे तो इसमें और गिरावट आ सकती है क्यूंकि RSI ० से निचे नहीं जा सकता और लम्बी समय अवधि के लिए ०-३० के बिच रहने का मतलब शेयर में और गिरावट आ सकती है ये हो सकता है. ऐसी स्थिति में शेयर की खरीदी की बजाये बिकवाली के मौके आपको ढूंढने चाहिए.

अगर RSI ७०-१०० के बिच में है तो आप मान सकते है की इस शेयर्स में बहुत बाईंग हो चुकी है और करेक्शन आ सकता है.

लेकिन हमने ऊपर कहा उस तरीके से अगर ये स्थिति लम्बे समय के लिए रहे तो आपको खरीदी करनी चाहिए ना की बिकवाली जब तक आपको ट्रेंड रिवर्सल का कोई संकेत नहीं मिल जाता.

लम्बी ओवेरबोट स्थिति के बाद अगर आपको लगे की अब RSI निचे की और जाना सुरु हो गया है तो आप शेयर्स में बिकवाली के मौके तलाश सकते है

उसी प्रकार अगर ओवेर्सोल्ड की स्थिति में RSI ३० की रीडिंग के ऊपर जाने लगे तब आप शेयर खरीदने के मौके तलाश सकते है.

RSI –Relative strength index Divergence का ट्रेडिंग में उपयोग:

जिस प्रकार हम RSI ट्रेंड रिवर्सल जिस अंको के बिच घूमता है उससे शेयर खरीद करे या बिकवाली करे ये जान सकते है उसी तरह हम RSI ट्रेंड रिवर्सल Divergence का उपयोग करके शेयर में खरीदी करे या बिकवाली करे ये जान सकते है.

अगर किसी शेयर का भाव ऊपर की तरफ बढ़ता जा रहा है लेकिन RSI स्ट्रेंथ नहीं बता रहा और निचे की तरफ ही रहता है तो इसे टेक्नीकल एनालसिस की भाषा में डायवरजन्स कहते है.

ऐसी स्थिति में अगर आपको केंडलस्टिक चार्ट पैटर्न में बेरिश केंडल दिख जाए तो आपको कन्फर्मेसन मिल जाता है और आप शेयर में बिकवाली कर सकते है.

उसी प्रकार अगर शेयर का भाव गिर रहा है लेकिन RSI ऊपर की तरफ ही रहता है ज्यादा निचा नहीं जा रहा है ऐसी स्थिति में अगरे आपको कोई बुलिश पैटर्न चार्ट पर दिख जाए तो आप शेयर में खरीदी कर सकते है.

इस प्रकार आप पॉजिटिव डायवरजन्स और नेगेटिव डायवरजन्स का उपयोग ट्रेडिंग में कर सकते है जो की काफी मजबूत संकेत होता है.

rsi indicator in hindi

RSI Indicator in hindi का ट्रेडिंग में कैसे उपयोग करे

इंट्राडे ट्रेडिंग , स्विंग ट्रेडिंग या इन्वेस्टमेंट याने की लम्बी अवधि के निवेश के लिए आप RSI का उपयोग टेक्नीकल एनालिसिस के लिए कर सकते है.

किसी भी शेयर को खरीदते समय हमेशा ध्यान रखे की RSI की रीडिंग अच्छी हो आप RSI –Relative strength index के डायवरजन्स का उपयोग करके भी शेयर चुनने के लिए रणनीति बना सकते है. जब कभी अगर आप केंडलस्टिक चार्ट में डायवरजन्स देखे तो आप इसका उपयोग करके खरीदी और बिकवाली कर सकते है

अगर है तो आप Positive Divergence खरीदी कर सकते है Negative Divergence है तो आप बिकवाली कर सकते है.

काफी लोग ये नहीं जानते की RSI के भी डायवरजन्स होते है. वो सिर्फ MACD का ही डायवरजन्स के लिए उपयोग करते है.

आप सपोर्ट और रेसिस्टेंट लेवल निकाल ने के लिए भी आर.एस.आय का उपयोग कर सकते है.

RSI का डिफ़ॉल्ट सेटिंग १४ का है आप अनुभव के साथ साथ इसमें फेरबदल करके अपने हिसाब से भी इसे सेट कर सकते है.

निष्कर्ष:

RS I Indicator in hindi आर्टिकल में हमने देखा की RSI Kya hai, RSI कैसे काम करता है, RSI का हम टेक्नीकल एनालिसिस में कैसे उपयोग कर सकते है, इंट्राडे ट्रेडिंग, स्विंग ट्रेडिंग, और लम्बी अवधि के लिए RSI कैसे उपयोगी होता है.

शेयर में कितनी मजबूती है उसकी इंटरनल मजबूती हमें RSI के जरिये पता चलती है. आप RSI का उपयोग ट्रेंड रिवर्सल करके कैसे शेयर चुन सकते है इन सब बातो की जानकारी आपको मिल चुकी होगी.

टेक्नीकल एनालिसिस सिखने और शेयर बाजार से जुडी जानकारी हिंदी में पढने के लिए आप मेरी वेबसाइट हिन्दिसफ़र.नेट की विजिट जरुर करे .

LIC के शेयर में लगातार गिरावट: ऑल टाइम लो पर पहुंचा LIC का स्टॉक, इश्यू प्राइस से करीब 20% नीचे 753 पर हुआ बंद

लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन यानी LIC का शेयर ऑल टाइम लो पर पहुंच गया है। ये 949 रुपए के इश्यू प्राइस से करीब 20% नीचे है। मंगलवार को NSE पर शेयर 24.45 रुपए या 3.15% की गिरावट के साथ 752.90 रुपए पर बंद हुआ। दिन के कारोबार में LIC ने 751.80 का निचला और 772.90 का ऊपरी स्तर बनाया। इस गिरावट के बाद LIC का मार्केट कैपिटलाइजेशन 5 लाख करोड़ रुपए से नीचे 4,76,683 करोड़ रुपए पर आ गया।

लिस्टिंग पर 5.70 लाख करोड़ था मार्केट कैप
LIC अपने इश्यू प्राइस से 9% डिस्काउंट पर लिस्ट हुआ था। हालांकि इसके बाद भी, यह 5.70 लाख करोड़ रुपए के मार्केट कैपिटलाइजेशन के साथ पांचवीं सबसे बड़ी लिस्टेड फर्म बन गई थी। कंपनी ने पिछले हफ्ते मार्च तिमाही का रिजल्ट भी जारी किया था। मार्च तिमाही में कंपनी का नेट प्रॉफिट 17.41% की गिरावट के साथ 2,409.39 करोड़ रुपए पर आ गया। पिछले साल की समान तिमाही में यह 2,917.33 करोड़ रुपए था। केपनी ने 1.50 रुपए प्रति शेयर के डिविडेंड का भी ऐलान किया था।

मार्केट कैप क्या होता है?
मार्केट कैप किसी भी कंपनी के कुल आउटस्टैंडिंग शेयरों की वैल्यू है। इसका कैलकुलेशन कंपनी के जारी शेयरों की कुल संख्या को स्टॉक की कीमत से गुणा करके किया जाता है। मार्केट कैप का इस्तेमाल कंपनियों के शेयरों को कैटेगराइज करने के लिए किया जाता है ताकि निवेशकों को उनके रिस्क प्रोफाइल के अनुसार उन्हें चुनने में मदद मिले। जैसे लार्ज कैप, मिड कैप और स्मॉल कैप कंपनियां।

निवेशकों को सलाह
शेयरइंडिया के वाइस प्रेसिडेंट और रिसर्च हेड रवि सिंह ने कहा कि LIC में अभी और सेलिंग प्रेशर दिख सकता है। आने वाले दिनों में ये 700 रुपए के लेवल तक आ सकता है। रवि सिंह ने मौजूदा स्तरों पर स्टॉक से बाहर निकलने की सलाह दी है। हालांकि, हाई रिस्क वाले इन्वेस्टर अभी भी स्टॉक में बने रह सकते हैं और ट्रेंड रिवर्सल का इंतजार कर सकते हैं।

₹320 के पार जाएगा राकेश झुनझुनवाला के पोर्टफोलियो में शामिल यह शेयर, एक्सपर्ट ने कहा- खरीद लो

राकेश झुनझुनवाला (Rakesh jhunjhunwala) और उनकी पत्नी रेखा झुनझुनवाला की इस कंपनी में हिस्सेदारी है। झुनझुनवाला के पास 1,38,85,570 शेयर या 7.14 प्रतिशत हिस्सेदारी है। यह शेयर बंपर मुनाफा करा सकता है।

₹320 के पार जाएगा राकेश झुनझुनवाला के पोर्टफोलियो में शामिल यह शेयर, एक्सपर्ट ने कहा- खरीद लो

Rakesh Jhunjhunwala portfolio: अगर आप राकेश झुनझुनवाला के पोर्टफोलियो के हिसाब से शेयर बाजार में दांव चलते हैं तो आप रैलिस इंडिया के शेयरों पर नजर रख सकते हैं। एक्सपर्ट इस शेयर पर बुलिश हैं और इसे खरीदने की सलाह दे रहे हैं। रैलिस इंडिया के शेयर (Rallis India Limited) पिछले एक साल से नुकसान है। इस शेयर ने पिछले एक ट्रेंड रिवर्सल साल में जीरो रिटर्न दिया है। दरअसल,राकेश झुनझुनवाला का यह स्टॉक 2022 में भी नए साल की शुरुआत के बाद ट्रेंड रिवर्सल से कंसॉलिडेशन जोन में बना हुआ है। हालांकि, पिछले एक महीने में स्टॉक लगभग 3 फीसदी की तेजी देने में कामयाब रहा है, जिससे काउंटर में ट्रेंड रिवर्सल की उम्मीद है। ब्रोकरेज फर्म के शेयर पर बुलिश हैं इसे बाय रेटिंग (BUY Rating) दी है।

आनंद राठी का मानना ​​​​है कि यह स्टॉक ऊपर की ओर बढ़ने के लिए तैयार है और लंबी अवधि में यह 320 रुपये तक जा सकता है। बता दें कि आज इंट्राडे में कंपनी के शेयर 241.40 रुपये पर कारोबार कर रहे हैं। यानी अभी दांव लगाने पर निवेशकों को 32.56% का मुनाफा हो सकता है।

₹4100 पर जाएगा राकेश झुनझुनवाला का ये फेवरेट स्टॉक, अभी दांव लगाने पर बड़ा मुनाफा, एक्सपर्ट ने कहा- खरीदो

ब्रोकरेज फर्म ने क्या कहा?
आनंद राठी की रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक, "प्रमुख कच्चे माल की अनुपलब्धता, हाई इनपुट कीमतों और अंतरराष्ट्रीय व्यापार वृद्धि में गिरावट ने रैलिस Q4 और वार्षिक प्रदर्शन को नुकसान पहुंचाया है। हालांकि कंपनी के पास प्रमुख अल्पकालिक चुनौतियां हैं बढ़ती लागत, विनिर्माण मांग लेकिन इसका उत्पाद-लॉन्च फोकस, निर्यात बाजार हिस्सेदारी लाभ और चल रही कैपेक्स योजनाएं लंबी अवधि के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। रैलिस इंडिया के शेयरों को 'खरीदें' टैग देते हुए, आनंद राठी कहते हैं, "हम 24x FY24e आय पर स्टॉक का मूल्यांकन करते हुए, ₹320 के टीपी के साथ अपनी खरीदें रेटिंग बनाए रखते हैं।"

गौतम अडानी ही नहीं उनकी कंपनियों में पैसे लगाने वाले लोग भी बने अमीर, इस साल छप्परफाड़ हुई कमाई

रैलिस इंडिया में राकेश झुनझुनवाला की शेयरधारिता
Q4FY22 के लिए Rallis India के शेयरधारिता पैटर्न के अनुसार, राकेश झुनझुनवाला (Rakesh jhunjhunwala) और उनकी पत्नी रेखा झुनझुनवाला की कंपनी में हिस्सेदारी है। राकेश झुनझुनवाला के पास 1,38,85,570 शेयर या 7.14 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जबकि रैलिस इंडिया में उनकी पत्नी रेखा झुनझुनवाला की 51,82,750 शेयर या कंपनी में 2.67 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

क्रिप्टो बाजार अपडेट (Crypto Market Update)

नोट: यह ब्लॉग किसी बाहरी ब्लॉगर द्वारा लिखा गया है। इस पोस्ट में व्यक्त विचार और राय पूरी तरह से लेखक के हैं। क्रिप्टोकुरेंसी एक अनियमित डिजिटल मुद्रा है, कानूनी निविदा नहीं है और बाजार जोखिमों के अधीन है। इस खंड में दी गई जानकारी किसी निवेश सलाह या WazirX की आधिकारिक स्थिति का प्रतिनिधित्व नहीं करती है।

क्रिप्टो मार्केट के साथ, बिटक्वाइन ने भी $39,500 के स्तर पर वापस आने से पहले, $38,000 से नीचे तक की गिरावट दर्ज की। दैनिक समय सीमा में, BTC ट्राईएंगल पैटर्न से नीचे आ गया है। लगभग 3 सप्ताह में पहली बार RSI 40 से नीचे गिरा है। ट्रेंड रिवर्सल और तेजी की शुरुआत से इसके आगे और भी सुधार हो सकता है। $33,050 पर तत्काल सपोर्ट की उम्मीद है।

इथेरियम सप्ताह भर के सुधार के साथ ही $2,600 से नीचे गिर गया था। पिछले कुछ दिनों में गति प्राप्त करने के बाद, बिटक्वाइन के खिलाफ इथेरियम फिर से कमजोर पड़ गया। दैनिक ट्रेंड पैटर्न आरोही चैनल पैटर्न के भीतर ट्रेड कर रहा है। 0.0658 पर तत्काल सपोर्ट की उम्मीद है।

रेडिकल (RAD), जो कोड कोलैबरेशन के लिए एक डिसेन्ट्रीलाइज़्ड नेटवर्क है, ने शीर्ष प्रदर्शन करते हुए 24 घंटों के भीतर 35% की वृद्धि दर्ज़ की।

रेटिंग: 4.55
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 796
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *